ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान ने सर्जिकल स्ट्राइक का बदला लेने के लिए करवाए ट्रेन हादसे, पकड़े गए लोगों को खुलासा

बिहार पुलिस के हाथ कुछ ऐसे लोग लगे हैं जिनके बयानों के मुताबिक, कानपुर में हुए रेल हादसे सर्जिकल स्ट्राइक का बदला लेने के लिए किए गए थे।
कानपुर की इन दोनों रेल हादसों में 150 से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी।

बिहार पुलिस के हाथ कुछ ऐसे लोग लगे हैं जिनके बयानों के मुताबिक, कानपुर में हुए रेल हादसे सर्जिकल स्ट्राइक का बदला लेने के लिए किए गए थे। जिन रेल हादसों का जिक्र किया गया उसमें इंदौर-पटना एक्सप्रेस और सयालदेह-अजमेर एक्सप्रेस वाले हादसे शामिल हैं। कानपुर के उन दोनों रेल हादसों में 150 से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी। जिन लोगों को पुलिस ने पकड़ा है उसमें उमाशंकर पटेल, मोतीलाल पासवान और मुकेश यादव शामिल हैं। तीनों को मंगलवार (17 जनवरी) को मोतिहारी से पकड़ा गया। तीनों पर आरोप था कि उन्होंने एक अक्टूबर को बिहार के घोराशन स्टेशन पर कूकर बम लगाया था। पकड़े जाने पर जब पूछताछ हुई तो उन्होंने यह भी कबूला कि उन्होंने कानपुर में दो और रेलों को पटरी से उतारने का काम किया था।

कैसे पकड़े गए: इससे पहले नेपाल पुलिस के हत्थे ISI का हैंडलर ब्रिजकिशोर गिरी चढ़ा था। उसके साथ दो और लोग शामिल थे। जिनके नाम शंभु गिरी और मुजाहिर अंसारी थे। तीनों को नेपाल से पकड़ा गया था। गिरी को ISI के समशूल हुदा से पैसे मिलते थे। हुदा नेपाल का ही है। वह दो साल पहले दुबई गया था। नेपाल इस वक्त हुदा को दुबई से वापस लाने की कोशिशों में लग गया है। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, एक खुफिया अधिकारी ने बताया कि उमाशंकर ने अधिकारियों को बताया कि गिरी ने उन लोगों को सर्जिकल स्ट्राइक के तुरंत बाद बदला लेने के लिए कुछ करने को कहा था।

जिन हैंडलर्स की मदद से तीनों पकड़े गए उन्होंने कुछ ऐसी बातें बताई थी जिससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि ट्रेन हादसे पहले से सोची समझी चाल थे। अंसारी ने नेपाल खुफिया अधिकारियों को बताया था कि उनकी 29 सितंबर को हुदा से फोन पर बात हुई थी जिसने कुछ बड़ा करने के लिए कहा था। यह बात बिहार पुलिस को नेपाल के बारा जिले में तैनात अरुण कुमार कुशवाह से पता लगी।

इस वक्त की बाकी ताजा खबरों के लिए क्लिक करें

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग