ताज़ा खबर
 

गोरखपुर: बीआरडी कॉलेज के पूर्व CMO का आरोप, प्रिंसीपल की बीवी चलाती थी अस्पताल

आम जनता, अधिकारी और कॉलेज का स्टाफ सभी पूर्णिमा की सच्चाई के बारे में जानते हैं।
Author गोरखपुर | August 14, 2017 11:23 am
गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कालेज में हुई इस दुखद हादसे में अब तक 70 बच्चों की मौत हो चुकी है। (PTI)

गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में हुई बच्चों की मौत की घटनाओं के पीछे का आरोप यहां के प्रिंसीपल राजीव मिश्रा की पत्नी पुर्णीमा शुक्ला पर लगा है। इस अस्पताल के पूर्व डॉक्टर एके श्रीवास्तव का कहना है कि पूर्णिमा प्रशासन के हर काम में दखल देती थीं। बता दें कि कॉलेज के प्रिंसीपल राजीव मिश्रा को शनिवार को ऑक्सीजन सप्लाई करने वाले डीलर के पैसे समय पर न देने के आरोप में सस्पेंड कर दिया गया है। वहीं मिश्रा की बीवी पर आरोप लगाते हुए श्रीवास्तव ने कहा कि पूर्णिमा अस्पताल से जुड़ी हुई थीं लेकिन कभी समझ नहीं आया कि वे किसी अधिकार से जुड़ी थीं।

बीआरडी के चीफ मेडिकल ऑफिसर के पद से ट्रांस्फर किए गए श्रीवास्तव ने कहा कि पूर्णिमा बाहरी सिफारिश पर स्टाफ की नियुक्ति, ट्रांस्फर और प्रमोशन में अपना बहुत दखल देती थीं। चुनाव उनका होता था और फाइल्स में साइन उनकी पति राजीव करते थे। श्रीवास्तव ने बताया कि पिछले साल नियुक्ति, ट्रांस्फर और प्रमोशन की जांच के लिए इन्क्वायरी बैठी थी जिसमें पूर्णिमा शुक्ला की भूमिका स्पष्ट तौर पर सबके सामने आ गई थी। आम जनता, अधिकारी और कॉलेज का स्टाफ सभी पूर्णिमा की सच्चाई के बारे में जानते हैं।

वहीं जब इस बारे में पूर्णिमा शुक्ला से पूछा गया तो उन्होंने खुद पर लगे सभी आरोपों को खारिज कर दिया। पूर्णिमा ने कहा कि किसी भी प्रोफेशनल व्यक्ति के पास इस समय किसी अन्य के ऑफिस कार्य में दखल देने के लिए समय ही नहीं है लेकिन अगर आप किसी की मदद या उसे सपोर्ट करते हो, तो इसमें कोई बुराई नहीं है। वहीं श्रीवास्तव के बयान पर पूर्णिमा ने कहा कि डॉक्टर श्रीवास्तव को ऐसे आरोप नहीं लगाने चाहिए क्योंकि उन्होंने उनके लिए बहुत कुछ किया है। ऑक्सीजन सप्लायर के पैसे देने में देरी की बात पर पूर्णीमा ने कहा कि फंड को स्वीकृति और फिर पैसों के ट्रांस्फर में समय लगता है।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग