ताज़ा खबर
 

अंधविश्‍वास: पिता ने घर में बने मंदिर में सिर से अलग कर दिया सवा महीने की बच्‍ची का धड़

बताया जा रहा है कि कल्याण किसी तांत्रिक से मिला था, जिसने बच्ची की बलि देने से उसकी आर्थिक स्थिति ठीक होने की बात कही थी।
Author May 20, 2017 21:24 pm
ये तस्वीर केवल सांकेतिक है।

उत्तर प्रदेश के संभल जिले की चंदौसी के बनियाठेर थाना क्षेत्र के मोहल्ला नरौली में एक पिता ने अपनी सवा महीने की बच्ची की बलि दे दी। पुलिस ने फरार निर्दयी पिता को छूरी के साथ गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने बताया, “चंदौसी के बनियाठेर थाना क्षेत्र के मोहल्ला नरौली में कल्याण सैनी अपने परिवार के साथ रहता है। परिवार में पत्नी और दो बेटियां है, जिसमें एक तीन साल की व दूसरी बेटी सवा महीने की है। पिता ने तंत्र-मंत्र के लिए अपनी ही मासूम बच्ची की घर में बने मंदिर में उसकी गर्दन धड़ से अलग कर बलि दे दी।” दिल दहला देने वाली इस वारदात के बाद पूरे इलाके में सनसनी मच गई। पुलिस को घर में मासूम बच्ची का शव मिला है, जिसमें उसका सिर शरीर से अलग था। पुलिस ने फरार निर्दयी पिता को बलि में प्रयुक्त छूरी के साथ गिरफ्तार कर किया।

बताया जा रहा है कि कल्याण फड़ पर दुकान लगा कर परिवार चलता है। साथ ही वह तंत्र-मंत्र के चक्कर में भी रहता है। शुक्रवार देर रात पत्नी ने पास में सो रही अपनी एक बच्ची के न होने पर उसे ढूंढा तो नहीं मिली। जब उसकी नजर पास के दूसरे कमरे पर पड़ी तो नजारा देख कर उसके होश उड़ गए। उसकी बच्ची का सिर कटा हुआ शरीर जमीन पर पड़ा हुआ था। जबकि उसके पास में बैठा कल्याण पूजा कर रहा था। चीख सुनकर मोहल्ले के लोगों के जमा होने पर आरोपी पिता फरार हो गया। बताया जा रहा है कि कल्याण किसी तांत्रिक से मिला था, जिसने बच्ची की बलि देने से उसकी आर्थिक स्थिति ठीक होने की बात कही थी।

सीओ चंदौसी सुरेश बाबू यादव ने बताया, “बच्ची की बलि देने वाले आरोपी पिता कल्याण सैनी को गिरफ्तार कर लिया गया है। मौके से घटना में प्रयुक्त छूरी बरामद कर ली गई है।” पूछताछ पर अभियुक्त ने बताया कि उस पर ऊपरी हवा का साया है। अभियुक्त को जेल भेज दिया गया।

पटना: इस्कॉन मंदिर के तीन साधुओं पर दिव्यांग बच्चे के यौन शोषण का आरोप:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग