ताज़ा खबर
 

गोरखपुर कांड में ‘हीरो’ बने डॉ कफील खान के बारे में सोशल मीडिया में ये क्या चल रहा है?

डॉ कफील खान को बीआरडी मेडिकल कॉलेज के एनआईसीयू विभाग के प्रमुख के पद से हटा दिया गया है। उनकी जगह अब डॉक्टर महेश शर्मा नए प्रमुख होंगे
बीआरडी अस्पताल के डॉ कफील खान (फोटो सोशल मीडिया से साभार)

गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में मचे कोहराम के दौरान बाल रोग विशेषज्ञ और इंसेफलाइटिस वार्ड के हेड डॉ काफिल खान के रोल की जबर्दस्त तारीफ हो रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक अगर संकट की घडी में डॉ काफिल खान अस्पताल में मौजूद नहीं होते तो मरने वाले बच्चों की संख्या और भी बढ़ सकती थी। अंग्रेजी वेबसाइट डीएनएइंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक जब अस्पताल में ऑक्सीजन खत्म हो गया तो डॉ कफील खान ने अपने दोस्त के नर्सिंग होम से ऑक्सीजन सिलेंडर मंगाये। लेकिन सोशल मीडिया पर कई लोगों ने डॉ कफील खान की भूमिका पर सवाल उठाये हैं। और उनके पिछले ट्वीट्स, बैकग्राउंड रिकॉर्ड पर सवाल उठा रहे हैं। लेकिन ये कफील खान गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में तैनात डॉ कफील खान ही हैं जनसत्ता इसकी पुष्टि नहीं कर सकता है।

गौरव प्रधान नाम के एक यूजर ने डॉ कफील खान के कई सारे ट्वीट्स का स्क्रीनशॉट्स अपने अकाउंट पर डाला है। ये ट्वीट्स उत्तर प्रदेश चुनाव के समय का है। इन ट्वीट्स में कफील खान अखिलेश यादव को अमित शाह और मोदी से देश को बचाने कह रहे हैं। प्रशांत पी उमराव नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘डॉ कफील खान (अखिलेश का आदमी) ने मोदी को हत्यारा कहा, और ये शख्स निजी प्रैक्टिस भी करता है।’ जितेन्द्र प्रताप सिंह नाम के एक यूजर ने लिखा है कि डॉक्टर कफील अहमद अपने ही अस्पताल में काम करने वाली एक मुस्लिम नर्स के साथ बलात्कार के केस में 1 साल जेल में रह चुके हैं।

सायबर बुली नाम के एक यूजर ने लिखा है, ‘कफील खान ऑक्सीजन खरीदारी के इंचार्ज थे, सूत्रों के मुताबिक उसी ने कथित रुप से गैस सप्लाई करने वाली कंपनी का पेमेंट रोका, वो खुले रुप से कांग्रेस और समाजवादी पार्टी का आदमी है।’ ऋषि बागरी नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘ डॉ कफील खान ऑक्सीजन वेंडर से कमीशन के लिए बात कर रहा था, इसलिए उसने पेमेंट रोक रखी थी।’ एक यूजर ने लिखा है कि 2009 में नेशनल बोर्ड एग्जाम फॉर मेडिकल रजिस्ट्रेशन की परीक्षा के वक्त दिल्ली पुलिस ने डॉ कफील खान को दूसरे कैंडिडेट के बदले परीक्षा देने के आरोप में गिरफ्तार किया था।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. B
    bitterhoney
    Aug 13, 2017 at 11:29 pm
    "कफील खान" का यह हश्र तो होना ही था. आश्चर्य तो इस बात का है कि उनको अभी तक देशद्रोही घोषित क्यों नहीं किया गया.
    Reply
सबरंग