ताज़ा खबर
 

BSF जवान आत्महत्या मामले में दोबारा जांच की मांग, परिवार का दावा- शव पर थे 8 गोलियों के जख्म

उत्तर प्रदेश के एक बीएसएफ जवान की मृत्यु के मामले में जवान के परिजनों ने जांच की मांग की है।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर (Indian Express)

उत्तर प्रदेश के एक बीएसएफ जवान की मृत्यु के मामले में जवान के परिजनों ने जांच की मांग की है। सूबेदार बिजेंद्र सिंह यादव का शव बीते मंगलवार (30 मई) को उनके फिरोजाबाद स्थित टूंडला इलाके के गांव जलोपुरा पहुंचा था। खबरों के मुताबिर बिजेंद्र की मृत्यु पर उसके परिजनों को फोन कर यह जानकारी मिली थी कि बिजेंद्र ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली है। वहीं इस मामले को लेकर परिजनों ने दावा किया है कि जब उन्हें बिजेंद्र का शव मिला था तो उसमें लगभग 8 गोलियां लगी हुई थीं। रिपोर्ट्स के मुताबिक यह दावा करते हुए बिजेंद्र के परिवार ने मौत को संदिग्ध मानते हुए फिर से पोस्टमॉर्टम की और मामले की सही से जांच करने की मांग उठाई है।

सूबेदार बिजेंद्र सिंह यादव की तैनाती गुवाहाटी में हुई थी। वह बीएसएफ की 98 बटालियन में सूबेदार पद पर नियुक्त थे। बीते रविवार 28 मई को बिजेंद्र के खुद को गोली मारकर आत्महत्या करने की जानकारी उनके परिवारीजनों को कमांडर द्वारा दी गई थी। वहीं खबरों के मुताबिक परिवार के लोगों ने बिजेंद्र का अंतिम संस्कार करने से भी इंकार कर दिया था। डीएम और एसएसपी के समझाने के बाद अंतिम संस्कार किया गया। बिजेंद्र को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। बिजेंद्र बीएसएफ में 1985 भर्ती हुए थे। बता दें इसी महीने 12 मई को जम्मू कश्मीर में भी सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स के एक जवान ने आत्महत्या कर ली थी। जवान का नाम अनिल कुमार था। ऐसे ही 23 अगस्त 2016 को इंडिया गेट के पास जनपथ स्थित राष्ट्रीय संग्रहालय में तैनात सीआईएसएफ के जवान मुन्ना कुमार राय ने भी खुद को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। डिप्रेशन की वजह से उसका इलाज एक अस्पताल में चल रहा था।

बता दें बीते मार्च महीने में एक सामने आई थी जिसमें यह दावा किया था कि हर साल 100 से ज्यादा सैनिक खुदकशी या खुदकशी करने की कोशिश करते हैं। टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक लोकसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री सुभाष भामरे ने कहा था कि, 101 सैनिक, 19 एयरमैन और 5 नाविकों ने पिछले साल खुदकुशी कर ली थी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग