ताज़ा खबर
 

यूपी: कुंवारों के इस गांव में कोई लड़की नहीं करना चाहती शादी, जानिए चौंकाने वाली वजह

पूरे गांव के पानी पीने के लिए केवल एक ही हैंडपंप है और एक कुआं है जिसका पानी पीने लायक नहीं है।
इस गांव की कुल जनसंख्या करीब 1,000 है। इस गांव में 18 साल से लेकर 29 साल तक के लड़कों की संख्या करीब 50 है।

यूपी के एक गांव पर ऐसा टैग लगा है कि अब उस गांव में कोई भी लड़की शादी नहीं करना चाहती है। इसकी वजह है कि इस गांव नें पानी की बहुत कमी है। यहां बिजली की व्यवस्था भी नहीं है। इस गांव को लोग कुंवारों का गांव भी कहने लगे हैं। यह गांव यूपी के इलाहाबाद से 35 किलोमीटर साउथ में है। इलाहाबाद के इस गांव में बिजली नहीं है, इसलिए यहां के लड़कों से कोई भी अपनी लड़की की शादी नहीं करना चाहता। जिस वजह से यहां के लड़के दूसरी जगहों पर जाकर शादी कर रहे हैं। हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक आजादी के बाद से ही इस गांव को बिजली का इंतजार है। सिर्फ बिजली ही नहीं श्री तारा मजरा गांव में पानी की भी समस्या है।

इस गांव में एक ही हैंडपंप है, जिसकी मदद से लोगों को पानी मिलता है। इसके अलावा पानी के लिए भी एक ही कुआं है, जिसका पानी पीने लायक नहीं है। साल 2002 में लोगों ने यहां पानी का पंप लगाया था। यहां रहने वाले कई लोग दूसरी जगहों पर जाकर रहने लगे हैं और जो फिलहाल रह रहे हैं वह ऐसा करने की सोच रहे हैं। इस गांव के एक बच्चे ने कहा, दूसरे गांव के बच्चों को जब पता चलता है कि हमारे गांव में बिजली नहीं है तो वह हमारा मजाक उड़ाते हैं।

वहीं इस गांव की कुल जनसंख्या करीब 1,000 है। इस गांव में 18 साल से लेकर 29 साल तक के लड़कों की संख्या करीब 50 है। गांव के बुजर्ग का कहना है कि गांव आने जाने के लिए कोई साधन नहीं है, बिजली नहीं है। पानी की परेशानी है। यहां सब चीज की तो परेशानी है। यहां गर्मी में आदमी मरेगा नहीं तो क्या होगा? गांव के ही एक दूसरे बुजुर्ग का कहना है कि हमारे बेटे की शादी तय हो गई थी। एक साल हमने इंतजार किया। साल भर बाद बेटी वालों ने शादी करने से मना कर दिया। लड़की वालों ने कहा कि हम अपनी बेटी की शादी इस गांव में नहीं करेंगे।

तेलंगाना सरकार का फैसला- शादीशुदा महिलायें पढाई से ध्यान भटकाती हैं, इसलिए आवासीय कॉलेजों में नहीं देंगे प्रवेश, देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग