ताज़ा खबर
 

अंधेरे में जी रही अमेठी की 80 फीसद आबादी

अब इसको रोशन करने के लिए भाजपा की दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना आई है। इस योजना में अमेठी के तीन हजार पुरवे चयनित हैं।
Author अमेठी | July 16, 2017 03:17 am
बिजली ।

अमेठी की 682 ग्राम पंचायतों की 16 लाख जनता को ग्रामीण विद्युतीकरण से जोड़ने के नाम पर करीब 9 सौ करोड़ रुपए खर्च हो चुके हैं। लेकिन अमेठी की 80 फीसद आबादी सरकारी रोशनी से उपेक्षित है, जबकि अमेठी की जनता को सरकारी रोशनी से जोड़ने के लिए राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना, आंबेडकर ग्रामीण विद्युतीकरण योजना, डॉ राममनोहर लोहिया ग्रामीण विद्युतीकरण योजना, समग्र विकास ग्रामीण विद्युतीकरण योजना और वीपीएल ग्रामीण विद्युतीकरण योजना के नाम पर अब तक करीब 9 सौ करोड़ रुपए खर्च हो चुके हैं, लेकिन अमेठी की जनता अंधेरे में पड़ी है। अब इसको रोशन करने के लिए भाजपा की दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना आई है। इस योजना में अमेठी के तीन हजार पुरवे चयनित हैं।

दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना में सबसे ज्यादा जामों ब्लॉक के 380 पुरवे और सबसे कम तिलोई ब्लॉक के 90 पुरवे लिए गए हैं। इस पर भाजपा की प्रदेश उपाध्यक्ष रश्मि सिंह ने कहा कि वे अमेठी में बिजली के भ्रष्टाचार का खत मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को दे चुकी हैं। कहने के लिए अमेठी बीआइपी है। लेकिन अमेठी की 682 ग्राम पंचायतों में अंधेरा है, जबकि ग्रामीण विद्युतीकरण के नाम पर माया और मुलायम की सरकारों में खूब धन खर्च किए गए हैं। पहले कांग्रेस सरकार में राजीव गांधी विद्युतीकरण योजना आई थी। इस योजना में अमेठी को 200 करोड़ रुपए मिले थे। लेकिन अमेठी को रोशनी देने की जिम्मेदारी आइकान कंपनी के पास थी। कंपनी के अफसरों ने अमेठी के विद्युतीकरण का काम स्थानीय ठेकेदारों, नेताओं और अफसरों के भरोसे छोड़कर चले गए, जिससे अमेठी में विद्युतीकरण के नाम पर केवल कागज भरे गए थे। बाकी पोल लाइन और ट्रांसफार्मर अस्सी के पहले वाले हैं।
अखिलेश के राज में राममनोहर लोहिया ग्रामीण विद्युतीकरण योजना और समग्र विकास ग्रामीण विद्युतीकरण योजना में विद्युत विभाग के अफसर मालामाल हो चुके हैं। अखिलेश के राज में अमेठी के करीब 6 सौ गांवों में विद्युतीकरण के नाम पर घपले किए गए हैं। मगर गांव की जनता के पास विद्युत आपूर्ति पाने के लिए संसाधान मौजूद नहीं हैं। भाजपा के काशी प्रसाद तिवारी ने कहा कि अमेठी में बिजली से जुड़े सभी छोटे-बड़े अफसर पूरी तरीके से निष्क्रिय हो गए हैं, जिससे योगी की योजनाएं जमीन पर विकास नहीं कर पा रही हैं।
भाजपा की पूर्व विधानसभा प्रत्याशी रश्मि सिंह ने कहा कि किसी भी गांव में विद्युतीकरण के नाम पर कुछ भी नहीं है, जो लगे हैं वे अस्सी के पहले के हैं, इसलिए भाजपा दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना लाकर अमेठी में विद्युतीकरण करा रही है। बाकी सरकारों ने ग्रामीण विद्युतीकरण के नाम पर केवल धन हड़पे। अमेठी में विद्युतीकरण के नाम पर हड़पे गए सरकारी धन पर अमेठी की प्रभारी व केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि वे मुख्यमंत्री से मुलाकात करेंगी, ताकि अखिलेश के राज में विद्युतीकरण के नाम पर हड़पे गए सरकारी धन की जांच हो सके।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग