ताज़ा खबर
 

उपहार अग्निकांड: 19 साल बाद भी इंसाफ की बाट जोह रहे हैं पीड़ित परिवार

दक्षिण दिल्ली के ग्रीन पार्क इलाके में 13 जून, 1997 को उपहार सिनेमा में ‘बोर्डर’ फिल्म के दौरान भयंकर आग लग गई थी। इस घटना में दम घुटने से 59 लोगों की मौत हो गई थी
Author नई दिल्ली | June 13, 2016 18:01 pm
एक निचली अदालत ने वर्ष 2007 में उपहार के मालिकों – असंल बंधुओं को दो साल के सश्रम कारावास की सजा सुनायी थी।

दक्षिणी दिल्ली के उपहार सिनेमा अग्निकांड के प्रभावित परिवारों का कहना है कि इस घटना के 19 साल बाद भी वे इंसाफ की बाट जोह रहे हैं। इस घटना में 59 लोगों की मौत हो गई थी। दक्षिण दिल्ली के ग्रीन पार्क इलाके में 13 जून, 1997 को उपहार सिनेमा में ‘बोर्डर’ फिल्म के दौरान भयंकर आग लग गई थी। इस घटना में दम घुटने से 59 लोगों की मौत हो गई थी जबकि आग और भगदड़ से 100 से अधिक लोग घायल हो गए थे। एसोसिएशन ऑफ विक्टिम ऑफ उपहार ट्रेजेडी (एवीयूटी) के अध्यक्ष नीलम कृष्णमूर्ति ने कहा, ‘हम 19 सालों से मामले के किसी प्रकार बंद होने का इंतजार कर रहे हैं लेकिन इंसाफ अब भी दूर है।’

एक निचली अदालत ने वर्ष 2007 में उपहार के मालिकों – असंल बंधुओं को दो साल के सश्रम कारावास की सजा सुनायी थी लेकिन एक साल बाद दिल्ली उच्च न्यायालय ने सजा घटाकर एक साल कर दी। उच्चतम न्यायालय ने वर्ष 2005 में उनकी दोषसिद्धि पर मुहर लगाई लेकिन उनकी उम्र और सलाखों के पीछे उनके द्वारा बिताए गए समय को ध्यान में रखते हुए उसने उन्हें वापस जेल में नहीं भेजने का फैसला किया और दोनों को कैद के स्थान पर 30-30 करोड़ रुपए देने को कहा।

कृष्णमूर्ति ने कहा, ‘हम उच्चतम न्यायालय द्वारा थियेटर के मालिकों सुशील और गोपाल अंसल को 60 करोड़ रुपए के जुर्माने के साथ बरी करने के फैसले से भौंचक्के रहे गए। अब हम अपनी समीक्षा याचिका पर सुनवाई का इंतजार कर रहे हैं।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग