ताज़ा खबर
 

बीजेपी मंत्री का विवादित बयान- ताजमहल को अजूबों में शामिल करने वाले लोग शाहजहां के ही मिजाज के होंगे

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, योगी सरकार द्वारा यूपी पर्यटन की बनाई गई नई बुकलेट में ताजमहल को जगह नहीं दी गई है।
राज्य सूचना विभाग की ओर से जारी कैलेण्डर में जुलाई महीने वाले पृष्ठ पर ताजमहल का चित्र है। (Express Photo by Shreyasi Jha)

ताजमहल को उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा राज्य की पर्यटन स्थल की सूची से बाहर किए जाने के बाद यूपी के कैबिनेट मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण का एक विवादित बयान आया है। लक्ष्मी नारायण ने कहा है कि ताजमहल को एक राजा ने मोहब्बत में बनवाया था, इसके अलावा और क्या है उसमें? उन्होंने कहा कि ताजमहल किसी धर्म का प्रतीक नहीं है और न ही ताजमहल कभी धार्मिक कहा जा सकता है। जो भी ताजमहल को देखने जाता है वह उसकी खूबसूरती देखने जाता है। लक्ष्मी नारायण ने कहा कि ताजमहल को सात अजूबों में शामिल करने वाले लोग शाहजहां के ही मिजाज के होंगे। साथ ही कैबिनेट मंत्री ने ताजमहल को पर्यटन स्थल से बाहर करते हुए गुरु गोरखनाथ पीठ को इसमें शामिल करने की वकालत की। उन्होंने आगरा को ताजनगरी कहे जाने पर भी एतराज जताया और कहा कि जो लोग ऐसा कहते है वह पश्चिमी सभ्यता से प्रभावित होंगे। उन्होंने कहा कि देश और प्रदेश में चल रही सरकार राष्ट्रवादी और धर्म के अनुसार चलने वाली सरकार है। उन्होंने कहा कि यह सरकार धर्मनीति के आधार पर चलने वाली सरकार है।

 

आपको बता दें कि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, योगी सरकार द्वारा यूपी पर्यटन की बनाई गई नई बुकलेट में ताजमहल को जगह नहीं दी गई है। दरअसल, यूपी में हर वर्ष पर्यटन मंत्रालय की आधिकारिक बुकलेट जारी होती है। लेकिन इस बार का बुकलेट विवादों में घिर गया है क्योंकि इसमें ताजमहल को जगह नहीं दी गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manish agrawal
    Oct 17, 2017 at 12:17 am
    बीजेपी वालों ! यूरोप, अमेरिका और दीगर मुल्कों से सैलानी सिर्फ ताजमहल का दीदार करने आते हैं , ना की गोरखनाथ मंदिर और रामजन्मभूमि देखने ! तुम्हे पता है की कानून भी औलाद को नाज़ायज़ नहीं मानता बल्कि उसके वालिदेन को नाज़ायज़ मानता है फिर यदि मुग़ल बादशाह शाहजहां यदि ग़लत थे भी तो ताजमहल कैसे गलत हो सकता है ? ताजमहल तो आज के हिन्दोस्तान की मिल्कियत है, भले ही उसको शाहजहां ने तामीर कराया हो !
    (0)(0)
    Reply
    1. M
      manish agrawal
      Oct 17, 2017 at 12:14 am
      दिल्ली में भी बीजेपी की केंद्र सरकार है और उत्तरप्रदेश में भी बीजेपी ही है ! ऐसा मौका फिर कभी नहीं आएगा क्योंकि " काठ की हांडी बार बार नहीं चढ़ती " ! इसलिए बीजेपी वालों ! चूको मत ! दिल्ली के लाल किले , कुतब मीनार तथा आगरा के ताजमहल और आगरा फोर्ट पर बुलडोज़र चलवा दो ! ना रहेगा बांस ना बजेगी बांसुरी !
      (0)(0)
      Reply
      1. M
        manish agrawal
        Oct 17, 2017 at 12:12 am
        बीजेपी वालों को शायद मालुम नहीं की उत्तरप्रदेश के 5 सबसे बड़े नगरों में से एक, आगरा की पहचान ,सारी दुनिया में सिर्फ ताजमहल की वजह से है ! ताजमहल ही हिन्दोस्तान की इकलौती ईमारत है, जिसकी प्रतिकृतियां बिकती हैं और करोड़ों रूपये का मार्किट है, जिसमे हज़ारों लोगों को रोज़गारमिला हुआ है ! देशी और विदेशी पर्यटक आगरा आता ही सिर्फ ताजमहल देखने के लिए ! यदि ताजमहल ना हो तो आगरा की हज़ारों करोड़ की पर्यटन से होने वाली income शून्य हो जायेगी !
        (0)(0)
        Reply
        1. M
          manish agrawal
          Oct 17, 2017 at 12:09 am
          अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने ताजमहल को देखा तो उनके मुँह से निकला था AMAZING, MARVELLOUS ! अब, ये बीजेपी वाले, अमेरिकी पर्यटकों को ताजमहल के वजाय गोरखनाथ मंदिर घुमाएंगे तो बेचारे अमेरिकन अपना सिर पीट लेंगें !
          (0)(0)
          Reply
          1. M
            manish agrawal
            Oct 17, 2017 at 12:08 am
            ताजमहल हिन्दोस्तान का सबसे अज़ीमुश्शान शाहकार है , जिसकी शोहरत का परचम सारी दुनिया में पिछले 400 साल से लहरा रहा है ! ताजमहल किसी उत्तरप्रदेश की हक़ीर सी हुकूमत के रहमोकरम का मोहताज़ नहीं ! किसी बीजेपी वाले की क्या मज़ाल कि ताजमहल का रुतबा जरा सा भी कम कर सके !
            (0)(0)
            Reply
            1. M
              manish agrawal
              Oct 16, 2017 at 11:45 pm
              बीजेपी वालों ! चलो ताजमहल तुड़वा देते हैं ! लेकिन फिर गैर-मुल्कों से आये हुए सैलानियों को क्या दिखाओगे ? सांप और नेवले की लड़ाई का मदारी वाला खेल, रस्सी पर चलता हुआ नट और RAMLEELA ? या फिर तांत्रिकों और ज्योतिषियों के चमत्कार ?
              (0)(0)
              Reply
              1. M
                manish agrawal
                Oct 16, 2017 at 11:44 pm
                बीजेपी वालों ! चलो ताजमहल तुड़वा देते हैं ! लेकिन फिर गैर-मुल्कों से आये हुए सैलानियों को क्या दिखाओगे ? सांप और नेवले की लड़ाई का मदारी वाला खेल, रस्सी पर चलता हुआ नट और रा ीला ? या फिर तांत्रिकों और ज्योतिषियों के चमत्कार ?
                (0)(0)
                Reply
                1. M
                  manish agrawal
                  Oct 16, 2017 at 11:41 pm
                  यदि ताजमहल न हो , तो आगरा के रेस्त्रां वाले, ढावे वाले, होटल वाले , टेक्सी वाले, ऑटो रिक्शे वाले , टूरिस्ट गाइड इत्यादि क्या करेंगें ? और यदि पर्यटक आगरा आया ही नहीं तो हज़ारों करोड़ रूपये के सामान को शो-रूमों से खरीदेगा कौन ?
                  (0)(0)
                  Reply
                  1. Load More Comments
                  सबरंग