ताज़ा खबर
 

मीडिया रिपोर्ट: योगी आदित्यनाथ यूपी के सीएम उम्मीदवार बनाने के लिए डाल रहे हैं बीजेपी पर दबाव

योगी आदित्यनाथ साल 1998 से गोरखपुर संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। (फाइल फोटो)

भारतीय जनता पार्टी के सासंद योगी आदित्यनाथ पार्टी नेतृत्व पर उन्हें यूपी में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करने के लिए दबाव बना रहा हैं। अंग्रेजी अखबार संडे गार्जियन ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि आदित्यनाथ ने अपने पार्टी नेतृत्व को यह संकेत दिए हैं कि अगर उनकी मांगे पूरी नहीं गई तो वह पार्टी के साथ नहीं रह पाएंगे। हालांकि, भाजपा ने अभी तक यह फैसला नहीं किया है कि यूपी में वे चुनाव से पहले मुख्यमंत्री उम्मीदवार घोषित करेंगे या नहीं। संकेत मिल रहे हैं कि पार्टी यूपी में सीएम उम्मीदवार की घोषणा नहीं करेगी। गोरखपुर से लोकसभा सांसद आदित्यनाथ को मंत्रीमंडल के पिछले विस्तार में कैबिनेट मंत्री का ओहदा दिया जा रहा था, लेकिन उन्होंने यह कहते हुए इनकार कर दिया कि वे अभी यूपी पर फोकस करना चाहते हैं।

वीडियो में देखें- पाकिस्तान को जानकारी देने पर जम्मू-कश्मीर पुलिस का अधिकारी निलंबित

आदित्यनाथ की मांग की वजह से भाजपा के लिए थोड़ी दिक्कतें पैदा हो गई हैं। इसी की वजह से नेतृत्व यह तय नहीं कर पा रहा है कि सीएम उम्मीदवार की घोषणा की जाए या नहीं। सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट में लिखा गया है कि पार्टी की एकता को ध्यान में रखते हुए भाजपा सीएम उम्मीदावर की घोषणा नहीं करेगी। गौर करने वाली बात यह है कि पार्टी कार्यकर्ताओं की मांग है कि असम की तरह यूपी में भी सीएम उम्मीदवार की घोषणा की जाएगी। उनका कहना है कि अन्य विपक्षी दल सपा, बसपा और कांग्रेस के पास सीएम उम्मीदवार हैं, ऐसे में भाजपा को भी घोषणा करनी चाहिए। बता दें, आदित्यानाथ के अलावा वरुण गांधी भी यूपी सीएम उम्मीदवार बनने की रेस में शामिल हैं।

Read Also: लोकसभा में सपा पर साधा योगी आदित्यनाथ ने निशाना, कहा- UP में हिंदू पलायन के लिए मजबूर

आदित्यनाथ 1998 से गोरखपुर संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। इससे पहले 1990 से 1998 तक महंत अवैद्यनाथ यहां से सांसद रहे। आदित्यनाथ गोरखपुर मठ के महंत हैं। इसके साथ ही वे हिंदू युवा वाहिनी के संस्थापक भी हैं।

बता दें, पार्टी राहुल गांधी की ‘किसान यात्रा’ के जवाब में भाजपा ‘परिवर्तन यात्रा’ का आयोजन करने जा रही है। यह यात्रा पांच नवंबर से से यूपी के सहारनपुर, ललितपुर, सोनभद्र और बलिया से शुरू होगी। इसके जरिए से 403 विधानसभा क्षेत्रों को कवर किया जाएगा। 55 दिन लंबी इस यात्रा की शुरुआत भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, राजनाथ सिंह, कलराज मिश्र और उमा भारती करेंगी।

Read Also: यूपी चुनाव सर्वे: BJP सबसे आगे, मायावती मुख्यमंत्री पद के लिए पहली पसंद

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग