ताज़ा खबर
 

यूपी: शामली में शुगर मिल से गैस रिसाव, 300 बच्चे पड़े बीमार, परिजनों ने किया हंगामा

परिजनों ने मिल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग करते हुए हंगामा किया।
अस्पताल में इलाज के लिए आए बच्चे। (Photo Source: ANI)

उत्तर प्रदेश के शामली में एक शुगर मिल से गैस का रिसाव होने से करीब 300 से ज्यादा बच्चे बीमार पड़ गए। ये सभी बच्चे शुगर मिल के पास ही स्थित एक स्कूल में पढ़ते थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक शुगर मिल का बायो गैस प्लांट स्कूल के पास ही था, जिसमें से केमिकल निकालकर सड़क के किनारे फेंका गया था। इस केमिकल से दुर्गंध निकल रही थी, जिससे बच्चों की तबियत खराब हो गई। इससे बच्चों के गले, आंख, पेट और अन्य जगह पर जलन शुरू हो गई। जब बच्चों ने स्कूल अध्यापकों को इस बारे में बताया गया तो उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं कुछ लोगों का कहना है कि मिल से गैस का रिसाव हुआ है, जिससे बच्चों की हालात बिगड़ी है। ये सभी बच्चे सरस्वती विद्या मंदिर और सरस्वती जूनियर हाई स्कूल में पढ़ते हैं।

सभी बीमार बच्चों को जिला अस्पताल, सीएचसी व निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। इतनी संख्या में बच्चों के अस्पताल पहुंचने पर वहां की भी सारी व्यवस्थाएं फेल हो गईं। डॉक्टरों ने आनन-फानन में इलाज शुरू किया। हालांकि, सभी बच्चे खतरे से बाहर हैं। पहले बताया जा रहा था कि करीब 30 बच्चों की हालात गंभीर है, लेकिन बाद में डॉक्टरों का बयान आया कि किसी भी बच्चे की स्थिति गंभीर नहीं है।

अंग्रेजी अखबार द ट्रिब्युन ने अपनी रिपोर्ट में शामली के सीएमओ डॉ. राज कुमार के हवाले से लिखा है कि ज्यादात्तार बच्चों को इलाज के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया है। साथ ही कहा कि कुछ बच्चों को जिला अस्पताल में निगरानी के तौर पर रखा गया है। इसके साथ ही कुमार ने बताया कि कुछ परेशान परिजनों ने उनके बच्चों को प्राइवेट अस्पताल में रैफर करने की अपील की। जिसके बाद उन्हें प्राइवेट अस्पताल में रैफर कर दिया गया।

बच्चों की तबियत बिगड़ने की खबर सुनकर परिजनों पहले भागे-भागे स्कूल पहुंचे और उसके बाद वे लोग अस्पताल पहुंचे। बच्चों के बीमार पड़ने की खबर मिलते ही कोहराम मच गया। इसके बाद परिजनों ने मिल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग करते हुए हंगामा किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग