ताज़ा खबर
 

चिड़ियाघर की ‘भगोड़ी’ बाघिन जमुना को महीने भर की कैद

पखवाड़े भर के भीतर अपने खुले बाड़े से दो बार ‘फरार’ होकर स्थानीय कमला नेहरू प्राणी संग्रहालय के प्रशासन की सांसें उच्च्पर..नीचे करने वाली बाघिन को अगले एक महीने तक पिंजरे में बंद रखने का फैसला किया गया है।
Author इंदौर | December 13, 2016 16:41 pm
चिड़ियाघर की ‘भगोड़ी’ बाघिन जमुना को महीने भर की कैद

पखवाड़े भर के भीतर अपने खुले बाड़े से दो बार ‘फरार’ होकर स्थानीय कमला नेहरू प्राणी संग्रहालय के प्रशासन की सांसें उच्च्पर..नीचे करने वाली बाघिन को अगले एक महीने तक पिंजरे में बंद रखने का फैसला किया गया है। चिड़ियाघर के प्रभारी उत्तम यादव ने आज को बताया, ‘‘रॉयल बंगाल प्रजाति की बाघिन जमुना को उसके खुले बाड़े से हटा दिया गया है, क्योंकि अब हम चिड़ियाघर की सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर उसे लेकर कोई जोखिम नहीं उठाना चाहते। बाघिन को सफेद शेरों के दूसरे बाड़े में ले जाकर वहां के पिंजरे में एहतियातन बंद कर दिया गया है।’’
यादव ने कहा, ‘‘पखवाड़े भर में चिड़ियाघर के खुले बाड़े की उच्च्ंची चारदीवारी लांघ कर बाघिन का दो बार भाग निकलना बताता है कि वह असामान्य बर्ताव कर रही है। इसी बाड़े में बाघिन के साथ बाघ लकी भी रहता है। लेकिन इस नर ने कभी बाड़े से भागने की कोशिश नहीं की।’’
चिड़ियाघर प्रभारी ने बताया कि अगले एक महीने तक बाघिन को पिंजरे में बंद रखकर उसके बर्ताव पर नजर रखी जायेगी। इस दौरान उसे खुले बाड़े में नहीं छोड़ा जायेगा।

उन्होंने बताया कि 15 महीने की बाघिन के ‘असामान्य बर्ताव’ के बारे में वन्य जीव विशेषज्ञों से भी राय ली जा रही है, ताकि पता चल सके कि उसने चिड़ियाघर में दो बार खुला बाड़ा लांघने की हरकत क्यों की थी। बाघों के कुनबे की यह मादा पहली बार 27 नवंबर को खुले बाड़े से बाहर निकलकर लापता हो गयी जिससे चिड़ियाघर में मौजूद सैकड़ों दर्शकों में डर के मारे भगदड़ मच गयी थी। बाघिन दूसरी बार कल 12 दिसंबर को अपने खुले बाड़े से निकल भागी, जब इस बाड़े में सुधार कार्य चल रहा था। गनीमत से कल चिड़ियाघर में सोमवार का साप्ताहिक अवकाश होने से कोई दर्शक नहीं था। दोनों ही खौफनाक वाकयों में बाघिन ने किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया और उसे चिड़ियाघर कर्मचारियों ने दोबारा बाड़े में पहुंचा दिया था।

चूंकि वह चिड़ियाघर कर्मचारियों के निर्देश को समझती है, इसलिये उसे बाडेÞ में पहुंचाने के लिये बेहोश करने की जरूरत भी नहीं पड़ी थी। बहरहाल, बाघिन के बाड़े से भाग निकलने के दो खौफनाक वाकयों से चिड़ियाघर की सुरक्षा व्यवस्था पर सवालिया निशान लग गया है। इंदौर नगर निगम के एक अतिरिक्त आयुक्त इस बिंदु पर भी जांच कर रहे हैं कि दोनों सिलसिलेवार घटनाओं के लिये कहीं चिड़ियाघर कर्मचारियों की लापरवाही तो जिम्मेदार नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.