ताज़ा खबर
 

बिहार: पटना के इस बैंक में मौजूद है कैश लेकिन नहीं है कोई निकालने वाला, जानिए वजह

अंग्रेजी न्यूज चैनल इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार की राजधानी पटना में स्थित आईसीआईसीआई बैंक की ब्रांच में पैसे की कोई लाइन नहीं लगी।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

नोटबंदी के बाद से बैंकों और एटीएम के पैसे खत्म हो जाते हैं लेकिन उनके बाहर लगी लंबी कतारें खत्म होने का नाम नहीं ले रहीं। मंगलवार को तीन दिन बाद बैंक खुले और लगभग सभी बैंकों और एटीएम के आगे लंबी कतारे देखने को मिली। ऐसे समय में आपको जानकर आश्चर्य होगा कि बिहार में एक ऐसा बैंक भी है जिसमें कैश तो है, लेकिन निकालने के लिए लाइन नहीं लगी। अंग्रेजी न्यूज चैनल इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार की राजधानी पटना में स्थित आईसीआईसीआई बैंक की इस ब्रांच में रुपए उपलब्ध हैं लेकिन निकालने के लिए मुश्किल से ही कोई आ रहा है। इतना ही नहीं, बैंक के बाहर एटीएम भी लगा है, इसमें पैसे भी हैं लेकिन फिर भी कोई लाइन नहीं लगी।

रिपोर्ट के मुताबिक, बैंक में मुश्किल से एक या दो लोग पैसे निकालने आ रहे हैं। जब इंडिया टुडे पत्रकार ने एक शख्स से पूछा कि आखिर क्यों लोग यहां से पैसे नहीं निकाल रहे तो जवाब मिला, “एटीएम से सिर्फ 2000 के नोट निकल रहे हैं। 2000 के नोट से हम करेंगे क्या? क्या कोई सब्जी वाला इसे लेगा? क्या किसी सब्जी वाले ने कार्ड का सिस्टम रखा है? हमें 100 और 500 रुपए के नोट की जरूरत है।” शख्स ने कहा कि 2000 के नोट का छुट्टा कराने में काफी दिक्कत होती है। हालांकि फिर भी इस जवाब से संतुष्टि नहीं होती और दुविधा बनी रहती है कि आखिर नोटबंदी को 34 दिन बीत जाने पर भी बैंक में भीड़ क्यों नहीं है।

तीन दिन बंद थे बैंक:

बता दें कि शुक्रवार को कामकाज होने के बाद बैंकों में 3 दिन का अवकाश था। दरअसल 10 दिसंबर को इस माह का दूसरा शनिवार था, इसलिए बैंक की छुट्टी थी। इसके अगले दिन रविवार था तब भी साप्ताहिक अवकाश था, वहीं सोमवार (12 दिसंबर) को ईद-ए-मिलाद के त्यौहार के चलते अवकाश था। इसके बाद मंगलवार को बैंक खुले तो महानगरों समेत छोटे कस्बों में भी लंबी लाइनें थीं।

बेंगलुरु: RBI के वरिष्ठ अधिकारी को CBI ने किया गिरफ्तार, अवैध तरीके से पैसे बदलने का आरोप

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.