ताज़ा खबर
 

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ का वादा, ‘वापस लाएंगे अयोध्या का खोया हुआ गौरव’

योगी आदित्यनाथ ने साफ कहा कि वर्तमान सरकार अयोध्या को उसका गौरव वापस दिलाने के लिए हर सम्भव प्रयास कर रही है।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (PTI Photo)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि पिछली सरकारों ने अयोध्या के गौरव के साथ खिलवाड़ किया। लेकिन अब ऐसा नही होगा। उन्होंने साफ कहा कि वर्तमान सरकार अयोध्या को उसका गौरव वापस दिलाने के लिए हर सम्भव प्रयास कर रही है। निकाय चुनाव के तहत एक जनसभा को सम्बोधित करने अयोध्या पहुंचे योगी ने यह बातें कही। योगी ने कहा, “पिछली सरकारों ने अयोध्या के साथ भेदभाव किया। इसके गौरव को छुपाने की कोशिश की गई। लेकिन हमारी सरकार बनने के बाद अयोध्या व मथुरा को नगर निगम का दर्जा दिया गया।”

उन्होंने कहा कि अयोध्या को नगर निगम का दर्जा देने की वजह से ही आज सभी लोग यहां वोट मांगने आ रहे हैं। हमारा यहां आना सपा और बसपा को अच्छा नहीं लगता। लेकिन यहां के गौरव को वापस दिलाने के लिए सरकार कई योजनाएं लेकर आ रही है। योगी ने कहा कि सरकार यहां पर बिजली, पानी और सड़क की सुविधाओं को और बेहतर बनाने का प्रयास करेगी। भगवान राम के बिना देश में कोई काम नहीं हो सकता क्योंकि वह हमारी आस्था के प्रतीक हैं। राम भारत की पूरी आस्था का केंद्र बिंदू हैं।

उन्होंने कहा कि राममंदिर मुद्दे पर हर तरह के प्रयास का स्वागत करते हैं। गौरतलब है कि योगी के प्रचार का कार्यक्रम मंगलवार से शुरू होकर 27 नवम्बर तक चलेगा। इनमें कई सभाओं में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नाथ पांडे भी साथ रहेंगे। तीन चरणों में होने वाले निकाय चुनावों में मुख्यमंत्री चरणों के मुताबिक होने वाले मतदान की तारीखों के आधार पर चुनावी सभाएं करेंगे।

मालूम हो कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस साल की दिवाली अयोध्या में बड़े ही भव्य तरीके ने मनाई थी। इस अवसर पर केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार के कार्यों को ‘राम राज्य’ स्थापित करने की दिशा में उठाये गये कदम करार देते हुए योगी ने कहा था कि केन्द्र सरकार के कार्यों से देश के आम नागरिक को जो सुख मिलेगा, वही ‘राम राज्य’ होगा। योगी ने कहा था कि प्रधानमंत्री का सपना है कि हर परिवार के सिर पर छत हो। वर्ष 2019 तक अपना व्यक्तिगत शौचालय हो, बिजली हो। यही रामराज्य है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manish agrawal
    Nov 14, 2017 at 9:22 pm
    कल्याण सिंह की बीजेपी हुकूमत ने,हिन्दोस्तान की अदालत-ए-उज़्मा में,हलफनामा दिया हुआ था कि बाबरीमस्जिद की पूरी हिफाज़त की जायेगी,लेकिन फिर भी मस्जिद को शहीद कर दिया गया ! यानि बीजेपी हुकूमत की नाकामयाबी और अदालत द्वारा दिए गए stay को कायम रखवाने में नाफरमानी साबित हुयी ! जब अदालत के जारी किये गए stay के हुक्मनामे के बाबजूद बाबरी मस्जिद को शहीद कर दिया गया तो क्या अदालत की ये जिम्मेदारी नहीं बनती थी की पहले बाबरी मस्जिद की दोवारा तामीर करवाकर,स्टे आर्डर को enforce कराया जाता,और तब तक अदालती कार्रवाई मुल्तवी रखी जाती?अयोध्या में प्रभु श्रीराम का जन्म हुआ था,इस बात से किसी को इंकार नहीं,पर माता कौशल्या ने मस्जिद वाले भूखंड पर ही उनको जन्म दिया था, ये तथ्य साबित नहीं किया जा सकता ! पुरातत्व सर्वेक्षण महकमे के द्वारा बाबरीमस्जिद के नीचे खुदाई की गयी थी,उसमे निकले अवशेष की कार्बन डेटिंग से यदि वो डेढ़ लाख वर्ष पुराने राजा दशरथ के महल के साबित हों, तब कुछ बात बनेगी,अन्यथा ये सब वकवास है ! हिन्दुओं की किसी भी मज़हबी किताब में रामजन्मभूमि की कोई निशानी नहीं दी गयी है, ना ही अयोध्या का नक्शा दिया है !
    (1)(0)
    Reply