ताज़ा खबर
 

तेलंगाना: सीएम के बेटे ने सड़क पर बेची आइस्क्रीम, एक घंटे से भी कम में कमाए 7.5 लाख रुपए

मुख्यमंत्री राव ने कहा कि इस पूरे प्रोग्राम का टाइटल गुलाबी कूली दिनालु (पिंक लेबर डे) दिया गया है। उन्होंने कहा कि सभी नेता और कार्यकर्ता कम से कम दो दिन अपने क्षेत्र में काम करेंगे और पैसे एकत्र करेंगे।
सीएम के बेटे केटी रामा राव ने सड़क पर बेची आइस्क्रीम। (ANI Photo)

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (केसीआर) द्वारा खुद कुली बनने और मंत्रियों, नेताओं को भी दो दिन काम करके पैसे कमाने के लिए कहा था। इस शारीरिक श्रम से जुटाए हुए पैसे का इस्तेमाल पार्टी के राष्ट्रीय सम्मेलन में किया जाएगा। इसी क्रम में केसीआर के बेटे और राज्य के आईटी मिनिस्टर केटी रामा राव ने आइसक्रीम पार्लर पर काम किया। इसके लिए उन्होंने पार्लर के हेल्पर का अप्रेन पहना और आइसक्रीम बेची। रिपोर्ट के मुताबिक केसीआर के बेटे ने एक घंटे से भी कम समय में 7.5 लाख रुपए की कमाई की। जो कि पार्लर के पूरे महीने भर की कमाई से भी ज्यादा है। हालांकि उनके ग्राहकों में ज्यादातर अमीर लोग और राजनेता ही थे। सांसद माला रेड्डी ने उनसे 5 लाख रुपए की आइसक्रीम खरीदी। रेड्डी अपने जवानी के दिनों में कभी कॉलेज नहीं गए लेकिन राज्य में उनकी इंजीनियरिंग कॉलेज की चेन है। वह पहले टीपीडी पार्टी से सांसद थे, बाद में उन्होंने पाला बदल लिया।

टीआरएस नेताओं का कहना है कि केटी रामा राव से पहले राज्य के उर्जा मंत्री जगदीश रेड्डी ने भी शारीरिक श्रम करके पार्टी के लिए पैसे जुटाए। जगदीश रेड्डी ने नालगोंडा जिले में कुली का काम करके तीन लाख रुपए कमाए थे। राज्य के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की कुली बनकर काम करेंगे। आगे आने वाले दिनों आपको ऐसे ही कुछ और चीजें देखने को मिल सकती है।

मुख्यमंत्री राव ने कहा कि इस पूरे प्रोग्राम का टाइटल गुलाबी कूली दिनालु (पिंक लेबर डे) दिया गया है। उन्होंने कहा कि सभी नेता और कार्यकर्ता कम से कम दो दिन अपने क्षेत्र में काम करेंगे और पैसे एकत्र करेंगे। राव ने कहा कि टीआरएस की सदस्यों की संख्या 75 लाख से ज्यादा जबकि 2014 में यह संख्या 51.5 लाख थी। सदस्यता अभियान से सदस्यता शुल्क के नाम पर पार्टी को 35 करोड़ मिले हैं। उन्होंने दावा कि टीआरएस देश की अकेली ऐसी पार्टी है, जिसने जीत के बाद अपना 100 फीसदी घोषणा पत्र को लागू किया है। टीआरएस नेताओं को उम्मीद है कि इस श्रम कार्यक्रम से इतनी राशि एकत्र हो जाएगी पार्टी के सम्मेलन का खाने का खर्च और ट्रेवल का पैसा निकल आएगा।

तेलंगाना सरकार का फैसला- शादीशुदा महिलायें पढाई से ध्यान भटकाती हैं, इसलिए आवासीय कॉलेजों में नहीं देंगे प्रवेश

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.