June 27, 2017

ताज़ा खबर
 

मोदी की ओर से 500, 1000 के नोट बैन के फैसले को लेकर खुश नहीं ओवैसी, पढ़ें क्या कहा…

पांच सौ और 1000 रुपए के नोटों का प्रचलन बंद करने को ‘जल्दबाजी’ में उठाया गया कदम करार देते हुए एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने आज कहा कि इसने अफरा-तफरी की स्थिति पैदा की है और गरीबों और मध्यम वर्ग को गहरी परेशानी में डाल दिया है।

Author हैदराबाद | November 9, 2016 18:09 pm
ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असद्दुद्दीन ओवैसी ।

पांच सौ और 1000 रुपए के नोटों का प्रचलन बंद करने को ‘जल्दबाजी’ में उठाया गया कदम करार देते हुए एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने आज कहा कि इसने अफरा-तफरी की स्थिति पैदा की है और गरीबों और मध्यम वर्ग को गहरी परेशानी में डाल दिया है।
उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया कि वह तत्काल अपना फैसला वापस लें। हैदराबाद लोकसभा सदस्य ने कहा कि भारत के सिर्फ दो फीसदी लोग नगदी रहित अर्थव्यवस्था में लेन-देन करते हैं जबकि शेष 98 फीसदी लेन-देन नकदी के जरिए होता है। उन्होंने गौर किया कि लोग यथा दिहाड़ी मजदूर, चालक, नलकार और नौकरानियां नकदी के जरिए अपनी आजीविका अर्जित करती हैं।

 

ओवैसी ने यहां कहा, ‘‘यह जल्दबाजी में किया गया है और अब ये सभी मध्यमवर्ग, गरीब लोग, श्रमिक, खेतिहर मजदूर, चालक गंभीर परेशानी में हैं। यह अफरा-तफरी की स्थिति है।’ उन्होंने कहा, ‘‘यह भारी अफरा-तफरी, उथल-पुथल पैदा करने जा रहा है। इसने बाजार में पहले ही उथल-पुथल पैदा की है।’ उन्होंने कहा कि जो लोग नकदी में अपना वेतन हासिल करते हैं, उन्हें अब नहीं पता है कि वे इसका क्या करें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 9, 2016 5:59 pm

  1. A
    Alok Kumar
    Nov 10, 2016 at 5:11 am
    सबकी चिंता छोडो ठीक है ना लोग अपनी चिंता कर लेंगे ........... तुम लोगो के दिमाक में कुछ कीड़ा है क्या ................जो कभी भी चुप नही रहने देता तुम लोगो को ............... कभी तो थोड़ा देश हिट में बोला करो ............या कशम खा लिए हो की मोदी चाहे कुछ भी करे देश के लिए ही क्यों न करे हम तो उसका विरोध ही करेंगे .....यदि ये मानसिकता है तो गलत है इसे निकल दो ............
    Reply
    1. A
      azam
      Nov 10, 2016 at 9:02 am
      मोदी ने आरएसएस के लिए १०० साल के पैसे का इंतेज़ाम करदिया....अभी के टाइम सबसे जेयादा कला धन तो बीजेपी के पास है...वो सरे वाइट हो गए.....
      Reply
      1. H
        hanuman
        Nov 9, 2016 at 8:50 pm
        Is Fai Se Madhyam Ya Garib Barg Nahi Presa Hain Balki Tere Jaise Neta Prasan H
        Reply
        1. H
          Hiten
          Nov 9, 2016 at 1:36 pm
          ये बेचारा बहुत परेशान है इसको पता ही नहीं की गरीब के पास पैसे है ही नहीं तौ उन्हें परेशानी किस बात की इसको हमारी टेंशन क्यों हो रही है हम सम्भालेगेंगें अपने आप को ये खुद का धयान रख ले , सारे नेता को आज हमारी बहुत चिंता है बूत हम खुश है ये अपने बारे में सोचे
          Reply
          1. M
            manoj
            Nov 10, 2016 at 11:46 am
            पाकिस्तान के प्रेस में पाकिस्तानी से ज्यादा भारतीय मुद्रा छपती है ? देश में पाकिस्तान के बहुत से एजेंट हैं जो किसी न किसी बहाने से उनका समर्थन करते हैं अब गरीबों के नाम पर ? गरीब रोज सरको पर धक्के कहते हैं कभी देखा है उनके साथ इन लोगों को ? झुग्गियों में अक्सर आग लग जाती है कभी देखा है इन लोगों को? यस गरीबों के नाम पर बनाने वाले अब देश बदल चूका है
            Reply
            1. M
              milind
              Nov 10, 2016 at 1:55 am
              जनता के नाम प र् अपना उल्लू सीधा करने वाले ही आज परेशान नजर आ रहे है तथा बदहवासी में ऊल जलूल तर्कहीन बयान बाजी कर अपने को जनता का रहनूमा साबित करने की असफल कोशिश कर रहे है
              Reply
              1. धर्मेश मेवाडा
                Nov 10, 2016 at 7:18 am
                बेहतरीन
                Reply
              2. A
                ankit payasi
                Nov 9, 2016 at 6:16 pm
                ये साले गद्दार तू कभी कोई ी बात बोल ही नही सकता
                Reply
                1. R
                  Ravi Sharma
                  Nov 10, 2016 at 7:48 am
                  इसकी सबसे बड़ी परेसानी ये है की जो करोडो नकली नोट अत्तंकवादियो ने बनाकर भारत में भेजे है उनका क्या होगा बाकि ओवेशी को देश से कुछ लेना देना नहीं है वैशे कमाल की बात तो ये है की ये तो सिर्फ आत्नाक्वादीयो के सपोर्ट में बोलता था पर आज देश की पूरी जनता के बारे में कुछ ज्यादा नहीं सोच रहा ! कोइनी इसकी गलती नहीं है गद्दारी इनके ब्लड में ही होती है और रही बात मोदी जी के फैसले की तो वो बिकुल ी है जय भारत माता की........
                  Reply
                  1. R
                    Rajendra Vora
                    Nov 9, 2016 at 12:44 pm
                    इसे कहके करना चाहिए था ताकि ये गरीब आदमी अपने काले धन को समय रहते सफ़ेद कर सकता था. क्या जरूरत थी मोदी जी को अचानक बांध करने की. इसके जैसे कई पॉलिटिशियन बर्बाद हो गए.
                    Reply
                    1. G
                      guddu
                      Nov 10, 2016 at 9:12 am
                      Kuchh had tak bat sahi hai kyoki garib majduro ka to kismat hi kharab hai bechare Paise kama kar ke ikatha karte hai ki ham apni garibi ko dur kare koi naya achha sa kam kare lekin usi bich me sarkar ka koi nya bakhera suru ho jata hai aur wah bechare jaise ke taise rah jate hai hamari sarkar ko hardik kamnaye majduro ko pareshan Karne ke liye
                      Reply
                      1. Load More Comments
                      सबरंग