December 04, 2016

ताज़ा खबर

 

पुलिस का दावा: 54 लाख रुपए के नोट बेकार हो जाने के डर से महिला ने दे दी जान

केंद्र सरकार ने 500 और 1000 रुपए के नोट बैन कर दिए हैं।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

तेलंगाना के महबूबाबाद जिले में रहने वाली एक महिला ने इसलिए सुसाइड कर लिया, क्योंकि उसके घर में 54 लाख रुपए के 500 और एक हजार रुपए के नोट रखे हुए थे। सरकार द्वारा 500 और एक हजार रुपए के नोट बंद करने के बाद महिला को लगा कि अब उसका कैश कागज बनकर रह गया है। पुलिस के मुताबिक 55 वर्षीय कांडूकुरी विनोद ने घर में अपने आपको उस वक्त फांसी के फंदे से लटका लिया, जब उसके बेटे और पति सो रहे थे। जब केंद्र सरकार ने 500 और एक हजार रुपए के नोट बंद किए तो विनोद का परिवार काफी दुखी थी। पुलिस के मुताबिक महिला के परिवार ने कुछ दिन पहले ही 12 एकड़ खेती की जमीन 56.40 लाख रुपए में बेची थी। यह जमीन उन्होंने अपने बीमार पति के ईलाज के बेची थी। 1.4 लाख खर्च करने के बाद बाकी का कैश उनके घर में था। ये सारे 500 और 1000 रुपए के नोट थे। परिवार दोबारा से जमीन खरीदने की योजना बना रहा था। पारिवारिक सूत्रों के मुताबिक विनोद अपनी पूरी जमीन बेचने को तैयार नहीं थी, घर में इसको लेकर काफी विवाद हुआ था। लेकिन जब पीएम मोदी ने नोट बंद करने की घोषणा की तो उन्हें लगा कि ये नोट केवल कागज बनकर रहे गए हैं।

वीडियो में देखें- 500, 1000 के नोट बदलवाने हैं? लोगों के पास आ रहीं ऐसी फ्रॉड काल्‍स

बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने का ऐलान मंगलवार शाम को किया था। इसके साथ ही कहा था कि लोग अपने पुराने नोट बैंक में जाकर बदल सकते हैं या फिर अपने खाते में जमा करा सकते हैं। सरकार ने लोगों नोट बदलने के लिए 50 दिन का समय दिया है। इसके एक दिन बाद केंद्र सरकार ने बुधवार रात को घोषणा की है कि 2.5 लाख से ज्यादा के नोट को बदलने पर घोषित आय मिलाया जाएगा। घोषित आय से अगर जमा की राशि नहीं मिली तो टैक्स और 200% तक जुर्माना जमा करना पड़ेगा। राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने इस विषय पर बोलते हुए कहा, ’10 नवंबर से 30 नवंबर तक के बीच जमा किए जाने वाले सभी पैसों की हमें रिपोर्ट्स मिलती रहेगी।’

वीडियो में देखें- 500, 1000 रुपए के नोट बदलवाने बैंक गए लोगों ने क्या कहा, जानिए

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 11, 2016 11:13 am

सबरंग