ताज़ा खबर
 

पूर्व प्रधानमंत्री नरसिंह राव के बेटे पीवी राजेश्वर राव का निधन

पूर्व प्रधानमंत्री पी वी नरसिंह राव के बेटे पी वी राजेश्वर राव का निधन हो गया।
Author हैदराबाद | December 13, 2016 11:26 am
पूर्व प्रधानमंत्री पी वी नरसिंह राव के बेटे पी वी राजेश्वर राव का निधन

पूर्व प्रधानमंत्री पी वी नरसिंह राव के बेटे पी वी राजेश्वर राव का निधन हो गया। वह 73 वर्ष के थे। उनके भतीजे और तेलंगाना भाजपा के प्रवक्ता एन वी सुभाष ने बताया कि राव को स्वास्थ्य संबंधी तकलीफ थी और आज शाम करीब चार बजे यहां के एक निजी अस्पताल में उनका निधन हुआ। राजेश्वर राव 1990 के दशक में सिकंदराबाद से कांग्रेस के सांसद थे। वह एक निपुण गायक और बैडमिंंटन खिलाड़ी भी थे। तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने उनके निधन पर शोक जताते हुए उनके साथ अपने संबंधों को याद किया।

मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार उन्होंने कहा कि राजेश्वर की सार्वजनिक सेवा, संगीत एवं साहित्य में गहरी रूचि थी।
आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने भी राव के निधन पर शोक जताया। चंद्रबाबू ने एक संदेश में शोकसंतप्त परिवार के प्रति अपनी संवेदनाएं व्यक्त की। वाईएसआर कांग्रेस के अध्यक्ष वाई एस जगनमोहन रेड्डी ने भी राजेश्वर राव के निधन पर दुख जताया। उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘राव साहित्यिक एवं सांस्कृतिक क्षेत्रों में सक्रिय थे।’

खुफिया ब्यूरो (आईबी) के पूर्व चीफ पी वी राजेश्वर  ने दो माह पहले यह दावा किया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने आपातकाल का समर्थन किया था और तत्कालीन संघ प्रमुख बालासाहेब देवरस ने इंदिरा गांधी से संपर्क स्थापित करने की कोशिश की थी। राजेश्वर ने यह दावा भी किया कि इंदिरा गांधी को पता था कि आपातकाल के दौरान क्या हो रहा है लेकिन लोगों पर इसके प्रभावों और इसके नतीजों की गंभीरता को शायद वह समझ नहीं पाईं।

आपातकाल लागू करने के समय आईबी के उप-प्रमुख रहे राजेश्वर ने यह दावा भी किया था कि इंदिरा गांधी शुरू में आपातकाल लागू होने के छह महीने बाद ही इसे हटाने का मन बना रही थीं, लेकिन अकूत शक्ति का आनंद ले रहे संजय गांधी इसके खिलाफ थे। इंडिया टुडे न्यूज चैनल पर वरिष्ठ पत्रकार करण थापर को दिए एक इंटरव्यू में राजेश्वर ने कहा, न केवल वे (आरएसएस) इसके समर्थन में थे, बल्कि उन्होंने श्रीमती गांधी के अलावा संजय गांधी से भी संपर्क स्थापित करने की कोशिश की। राजेश्वर ने कहा कि यह बिल्कुल सही है और वह पूरे यकीन के साथ यह कह रहे हैं। भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) से सेवानिवत होने के बाद उत्तर प्रदेश और सिक्किम के राज्यपाल रह चुके राजेश्वर ने कुछ माह पहले ही एक दि कू्रशियल ईयर्स नाम की किताब लिखी है।

वीडियोः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग