ताज़ा खबर
 

डेंगू से बचने के लिए मंत्री ने दी गोबर यूज़ करने की सलाह, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री का तंज- नोबेल तो इन्हें ही मिलना चाहिए

इससे पहले मंत्री महोदय ने मदुरै के वैगई बांध के पानी को सूखने से बचाने के लिए उसे थर्मोकोल से ढकने की ना सिर्फ सलाह दी थी बल्कि उन्होंने ऐसा किया भी था।
तमिलनाडु के को-ऑपरेटिव मंत्री के सेल्लूर राजू (फाइल फोटो)

तमिलनाडु के मंत्री सेल्लूर के राजू ने कहा है कि डेंगू के मच्छरों को बढ़ने से रोकने में गाय का गोबर काफी फायदेमंद साबित होता है। मदुरै में डेंगू के खिलाफ एक घर-घर जागरुकता अभियान में शिरकत करते हुए मंत्री सेल्लूर के राजू ने कहा कि लोगों को अपने घर के आंगन में गाय के गोबर को पानी में घोलकर आस-पास छिड़काव करना चाहिए, इससे डेंगू के मच्छर बढ़ नहीं पाते हैं। सेल्लूर के राजू ने कहा, ‘हमारे पूर्वज घर के सामने गोबर से लीपते थे और इसका छिड़काव करते थे, लेकिन हमलोगों ने ऐसा करना छोड़ दिया, आप फिर से ऐसा करना शुरू कर दीजिए, ना तो मच्छर आएंगे, और ना ही डेंगू।’ तमिलनाडु के को-ऑपरेटिव मंत्री सेल्लूर के राजू ने पत्रकारों से कहा कि अगर लोग सहयोग करें तो डेंगू पर आसानी से काबू पाया जा सकता है। बता दें कि तमिलनाडु इन दिनों डेंगू का दंश झेल रहा है। राज्य में इस साल जनवरी से डेंगू के 12 हजार मामले आए हैं इनमें से 40 लोगों की मौत हो चुकी है। डेंगू से निपटने के लिए राज्य में जोरशोर से जागरुकता अभियान चलाया जा रहा है।

ऐसा पहली बार नहीं है कि मंत्री सेल्लूर के राजू अपने उटपटांग रायों के लिए चर्चा में हैं। इससे पहले मंत्री महोदय ने मदुरै के वैगई बांध के पानी को सूखने से बचाने के लिए उसे थर्मोकोल से ढकने की ना सिर्फ सलाह दी थी बल्कि उन्होंने ऐसा किया भी था। लेकिन उनके इस आइडिया की काफी किरकिरी हुई जब हवा के बहाव में सारे थर्मोकॉल शीट्स उड़ गये। इस बार भी उनके इस बयान के लिए सोशल मीडिया पर लोग खूब चुटकी ले रहे हैं।

पूर्व केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री और पीएमके नेता डॉ एस रामदास ने कहा कि सेल्लूर के राजू को डेंगू से लड़ने के अनोखे तरीके को खोजने के लिए उन्हें नोबेल प्राइज देना चाहिए। रामदास ने ट्वीट किया, ‘ साइंस और मेडिसिन का नोबेल पुरस्कार इस बार राजू को ही दिया जाना चाहिए।’ सोशल मीडिया पर आलोचना झेलने के बाद सेल्लूर के राजू अपने बयान से पीछे हट गये और उन्होंने कहा कि ये उनका नहीं बल्कि अफसरों का आइडिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग