ताज़ा खबर
 

भगवान वेंकटेश्वर मंदिर में नागा साधु ने की पूजा-अर्चना तो गर्भगृह का किया गया शुद्धिकरण

शनिवार को भगवान वेंकटेश्वर के दर्शन के लिए कई भक्त जब तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम पहुंचे तो यहां मंदिर के कपाट बंद थे, जब भक्तों ने इस बावत जानकारी जुटाई तो पता चला कि मंदिर के दरवाजे शुद्धिकरण के लिए दोपहर तक बंद है।
नागा साधु अपने शरीर पर वस्त्र धारण नहीं करते हैं।

तिरुपति मंदिर में नागा साधुओं के प्रवेश के बाद विवाद पैदा हो गया है। मंदिर प्रबंधन ने नागा साधुओं के प्रवेश के बाद मंदिर का शुद्धिकरण किया है। अंग्रेजी वेबसाइट डक्कन क्रोनिकल के मुताबिक शुक्रवार को एक नागा साधु और उनके तीन शिष्य भगवान वेंकटेश्वर मंदिर में दर्शन के लिए पहुंचे। इन साधुओं के प्रवेश के बाद शनिवार को सुबह-सुबह मंदिर को श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिया गया। शनिवार को भगवान वेंकटेश्वर के दर्शन के लिए कई भक्त जब तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम पहुंचे तो यहां मंदिर के कपाट बंद थे, जब भक्तों ने इस बावत जानकारी जुटाई तो पता चला कि मंदिर के दरवाजे शुद्धिकरण के लिए दोपहर तक बंद है। नागा साधुओं या अघोरी साधुओं के बाद मंदिर को सुबह 5 बजे से लेकर 11.55 तक बंद कर दिया गया। इस मामले को लेकर यहां तरह तरह की चर्चाएं हो रही है।

जब मंदिर प्रबंधन से इस बारे में पूछा गया तो स्थानीय परामर्श समिति के एक सदस्य ने बताया कि कमेटी के दो सदस्यों ने चार अघोरी साधुओं को दर्शन के लिए बुलाया था इनमें एक संत पूर्ण रुप से नग्न थे, उन्होंने अपने शरीर पर चारों ओर भस्म लगा रखी थी ये साधु अपने तीन शिष्यों के साथ यहां आए थे और भगवान विष्णु और देवी पदमावती के दर्शन करने आए थे। जब तक मंदिर का प्रबंधन समिति कुछ समझ पाता ये साधु अंदर परिसर में आ चुके थे और कुछ ही मिनटों में दर्शन कर चले गये। मंदिर प्रबंधन समिति ने बताया कि चूंकि अघोरी साधु मंदिर परिसर में प्रवेश किये थे इसलिए पुजारियों को शुद्धिकरण करना पड़ा।

वासन नाम एक वकील ने दावा किया कि शुक्रवार को उन्होंने वाराणसी से ताल्लुक रखने वाले महंत रमण गिरी नागा बाबा मिले, जब उन्हें पता चला कि ये साधु तमिलनाडु तीर्थाटन पर आए हैं तो उन्होंने इन साधुओं से तिरुपति मंदिर दर्शन करने की सलाह दी। हालांकि वासन ने दावा कि ये अघोरी नहीं बल्कि नागा साधु थे। बता दें कि नागा साधु शरीर पर किसी किस्म का वस्त्र धारण नहीं करते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग