ताज़ा खबर
 

27000 रुपए में बिका नींबू, खरीदने के लिए लोगों ने लगाई बोली, जानिए क्यों

पिछली बार मंदिर प्रशासन द्वारा आयोजित की गई नीलामी प्रक्रिया के दौरान पहले नींबू की कीमत 39 हजार रुपए लगाई गई थी। वहीं, कुल नींबू के जरिए मंदिर को 57,722 रुपए प्राप्त हुआ था।
Author विल्लुपुरम। | April 15, 2017 16:55 pm
हजारों में बिका पवित्र नींबू। (Representative Image)

कभी सोचा है कि अगर एक नीबू खरीदने के लिए आपको हजारों रुपए चुकाने पड़े तो क्या आप खरीदेंगे। लेकिन तमिलनाडु में नीबू की नीलामी की गई तो उसकी बोली 27000 रुपए लगी। यह कोई मामूली नहीं है। दरअसल राज्य के विल्लुपुरम के एक मंदिर में 11 दिन चलने वाले पानगुनी उथीरम त्योहार के दौरान नीबू की नीलामी की गई। इस पर्व में 9 नीबुओं की पूजा होती है और इन्हें बहुत ही पवित्र और समृद्धि प्रदान करने वाला माना जाता है। मंदिर प्रशासन द्वारा किए गए ऑक्शन में 9 नीबुओं की कीमत 68 हजार रुपए लगी। इनमें से एक नींबू की कीमत 27000 रुपए लगी। यह नींबू मंदिर के देवता मुरुगा पर चढ़ाया जाता है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक इस पर्व के पहले 9 दिन हर रोज एक नींबू चढ़ाया जाता है। तिरुवानैनल्लुर और उसके आसपास के क्षेत्र के निवासियों का मानना है कि इन नींबू को रखने से समृद्धि होती है। उनका यह भी मानना है कि यह नींबू नि:स्तान दंपत्ति को संतान सुख प्राप्त कराने में भी सहायक है। जिन लोगों के बच्चे होते हैं वह इन्हें समद्धि और बेहतर स्वास्थ्य के लिए खरीदते हैं। मंदिर से जुड़े लोगों का मानना है कि पहले दिन चढ़ने वाले नींबू को सबसे शुभ और शक्तिशाली होता है। इस नींबू कीमत इस बार 27 हजार रुपए लगी। जबकि दूसरे और तीसरे तीन चढ़ने वाली नींबू की नीलामी 6-6 हजार रुपए में हुई।

पिछली बार मंदिर प्रशासन द्वारा आयोजित की गई नीलामी प्रक्रिया के दौरान पहले नींबू की कीमत 39 हजार रुपए लगाई गई थी। वहीं, कुल नींबू के जरिए मंदिर को 57,722 रुपए प्राप्त हुआ था। इस हिसाब से इस बार प्रशासन को 10 हजार रुपए से ज्यादा का फायदा मिला है। रिपोर्ट के मुताबिक यह मंदिर बहुत ही प्राचीन माना जाता है। कुछ साल पहले तक लोगों को नींबू बिना किसी पैसे के दिए जाता था, लेकिन बाद में मंदिर की रखरखाव के लिए इसकी नीलामी का फैसला किया गया।

गुजरात: सोमनाथ मंदिर में प्रार्थना करने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग