June 24, 2017

ताज़ा खबर
 

जयललिता की 69वीं जयंती: भतीजी दीपा ने बनाया सियासी मंच, विरासत के लिए लड़ेंगी

दीपा ने एक सवाल के जवाब में कहा कि लोग चाहते हैं कि वह आरके नगर सीट से चुनाव लड़ें जो जयललिता की मृत्यु के बाद खाली हो गई है।

Author चेन्नई | February 25, 2017 00:05 am
दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता की जयंती पर उनकी भतीजी दीपा जयकुमार ने ‘एमजीआर अम्मा दीपा फोरम’ की घोषणा की। (PTI Photo by R Senthil Kumar/24 Feb, 2017)

तमिलनाडु की दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता की 69वीं जयंती पर उनकी विरासत को लेकर तेज होती जंग के बीच भतीजी दीपा ने शुक्रवार (24 फरवरी) को एक नये सियासी मंच का ऐलान किया तो वहीं अन्नाद्रमुक के अलग अलग खेमों ने पूरे तमिलनाडु में कल्याणकारी सहायता कार्यक्रमों का आयोजन किया। अन्नाद्रमुक के अलग अलग नेताओं के बीच जुबानी जंग के बीच मुख्यमंत्री इडापद्डी के पलानीस्वामी के नेतृत्व वाली राज्य सरकार, उनके पूर्ववर्ती और असंतुष्ट नेता ओ पनीरसेल्वम और तथा अन्नाद्रमुक ने अपने अपने तरीके से पौधरोपण, चिकित्सा शिविर और राहत सामग्री का वितरण कर जयललिता की जयंती मनाई। अपने घर पर भीड़ भरी प्रेस कॉन्फ्रेंस में दीपा ने कहा कि उनका राजनीतिक सफर ‘शुरू’ हो चुका है। उन्होंने इस मौके पर एक झंडा भी पेश किया जिसपर जयललिता और एमजी रामचंद्रन की तस्वीर बनी हुई है। उन्होंने कहा कि यह ‘एमजीआर अम्मा दीपा फोरम’ का एक ध्वज मात्र है।

एक सवाल के जवाब में दीपा ने कहा कि लोग चाहते हैं कि वो आर के नगर सीट से चुनाव लड़ें जो अन्नाद्रमुक सुप्रीमो के निधन की वजह से खाली हुई है। दीपा ने कहा कि उन्हें राजनीति में आने के लिए काफी अनुरोध किया जा रहा था और आज का ये ऐलान उनकी भावनाओं का सम्मान करते हुए किया गया है। दीपा मंच की कोषाध्यक्ष होंगी। उन्होंने कहा कि वो आने वाल समय में अपनी आगे की रणनीति तैयार करेंगी और ‘सही समय आने पर’ इसका खुलासा करेंगी। वहीं पनीरसेल्वम पर परोक्ष हमला करते हुए बेंगलुरु जेल में बंद अन्नाद्रमुक महासचिव वी के शशिकला ने कहा, ‘जब दुश्मन और गद्दार पार्टी और सरकार को हराना चाहते थे, अम्मा की आत्मा ने हमारा मार्गदर्शन किया और अन्नाद्रमुक सरकार को सत्ता केंद्र में बैठाया।’

पार्टी के मुखपत्र ‘डॉ. नमाधु एमजीआर’ के आज (शुक्रवार, 24 फरवरी) के अंक में उन्होंने कहा, ‘आइये पार्टी की रक्षा और लोगों के लिए काम करने की शपथ लें।’ पनीरसेल्वम ने नाम लिए बगैर शशिकला और उनके परिवार पर निशाना साधते हुए कहा कि वो अम्मा (जयललिता) की इच्छा के विपरीत पार्टी पर कब्जा करने की कोशिश कर रही हैं। जयललिता की मौत से जुड़ी परिस्थितियों की न्यायिक जांच की मांग पर जोर देते हुए उन्होंने कहा, ‘धर्म युद्धम जारी रहेगा।’ जयललिता को पुष्पांजलि अर्पित करते हुए पनीरसेल्वम ने उत्तरी चेन्नई के तोंडियारपेट में लोगों की मदद के लिए राहत सामग्री का वितरण किया।

वहीं मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने जयललिता की जयंती के मौके पर राज्य में 69लाख पौधे लगाने के अभियान की शुरच्च्आत की।
पार्टी मुख्यालय में जयंती समारोह का नेतृत्व के ए सेनगोट्टियान ने की। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेता शामिल हुए। कभी शशिकला के समर्थक रहे जयललिता के भतीजे दीपक जयाकुमार ने अब कहा है कि उनका मुख्यमंत्री बनने का प्रयास तमिलनाडु के लोगों को ‘अस्वीकार्य’ है। उन्होंने दावा किया कि दिवंगत अन्नाद्रमुक प्रमुख ने अपनी संपत्तियां उनके और उनकी बहन के नाम छोड़ी है।

जयललिता की भतीजी दीपा जयकुमार के बारे में जानिए 5 बातें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on February 24, 2017 11:58 pm

  1. No Comments.
सबरंग