ताज़ा खबर
 

कावेरी जल विवाद: अमित शाह से मिलेगी तमिलनाडु भाजपा, विपक्ष का प्रदर्शन जारी

पीएमके प्रमुख एस. रामदास ने आरोप लगाया कि केन्द्र ने 2018 में होने वाले कर्नाटक विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए कावेरी प्रबंधन बोर्ड के गठन के खिलाफ रुख अपनाया है।
Author चेन्नई | October 8, 2016 19:52 pm
तमिलनाडु को कावेरी नदी का जल दिए जाने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ कर्नाटक के चिकमागलुर में मगादी के नजदीक एक सूखे झील में प्रदर्शन करते कन्नड़ सेना के कार्यकर्ता। (PTI Photo/21 Sep, 2016/File)

कावेरी प्रबंधन बोर्ड के गठन के विरोध में केन्द्र के रुख को लेकर तमिलनाडु में विरोध झेल रही भाजपा की प्रदेश इकाई ने शनिवार (8 अक्टूबर) को कहा कि इस मुद्दे पर वह रविवार (9 अक्टूबर) को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात करेगी। हालांकि इस बीच राज्य में विपक्षी दलों द्वारा केन्द्र सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी हैं। प्रदेश भाजपा इकाई की अध्यक्ष तमिलिसाई सुन्दरराजन ने कहा, ‘कावेरी मुद्दे पर हम कल (रविवार, 9 अक्टूबर) अपने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से मिलेंगे, और कावेरी प्रबंधन बोर्ड पर तमिलनाडु इकाई के मत से उन्हें अवगत कराएंगे।’

सुन्दरराजन ने कहा कि शाह से मिलने के लिए उनकी अगुवाई में जाने वाले प्रतिनिधिमंडल में केन्द्रीय मंत्री पोन राधाकृष्णण और राज्यसभा सदस्य निर्वाचित हुए एल. गणेशन भी शामिल होंगे। बोर्ड के गठन हेतु प्रक्रिया को समझाते हुए उन्होंने दावा किया, ‘भाजपा हमेशा से तमिलनाडु में किसानों के हितों की रक्षा करती रही है और ऐसा करती रहेगी।’ कावेरी प्रबंधन बोर्ड की गठन के लिए संसदीय मंजूरी लेने सहित अन्य कई प्रक्रियाएं पूरी करनी होंगी। उन्होंने कहा कि राज्य इकाई कावेरी प्रबंधन बोर्ड की गठन के पक्ष में है तथा ऐसा करने के लिए सभी कदम उठाए जाएंगे।

इस बीच तमिलनाडु में विपक्षी दलों ने कावेरी मुद्दे पर केन्द्र के खिलाफ प्रदर्शन जारी रखा। पीएमके और तमिल मनीला कांग्रेस (मूपनार) ने शनिवार को यहां अरियालुर में प्रदर्शन करते हुए किसानों के हित में बोर्ड के गठन की मांग की। कावेरी प्रबंधन बोर्ड के गठन हेतु सामने ना आकर केन्द्र की भाजपा नीत सरकार पर ‘तमिलनाडु के लोगों के साथ धोखा करने’ का आरोप लगाते हुए पीएमके प्रमुख एस. रामदास ने कहा कि उनकी पार्टी नदी जल मामले पर केन्द्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन जारी रखेगी। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘हम भाजपा-नीत केन्द्र को ऐसी पार्टी के रूप में देखते हैं जिसने कावेरी मुद्दे पर तमिलनाडु के साथ बड़ा धोखा किया है। इस विश्वासघात को क्षमा नहीं किया जा सकता है।’

पीएमके प्रमुख एस. रामदास ने आरोप लगाया कि केन्द्र ने 2018 में होने वाले कर्नाटक विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए कावेरी प्रबंधन बोर्ड के गठन के खिलाफ रुख अपनाया है। उन्होंने कहा, ‘यह तमिलनाडु के लोगों के खिलाफ अन्याय है।’ उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी कावेरी मुद्दे को लेकर शांतिपूर्ण तरीके से केन्द्र के खिलाफ लड़ाई जारी रखेगी।

रामदास ने कहा कि उनकी पार्टी की कार्यकारी समिति केन्द्र के खिलाफ प्रदर्शन के तरीके तय करेगी। इसमें तमिलनाडु के भीतर केन्द्रीय मंत्रियों और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को काले झंडे दिखाना शामिल होगा। तमिल मनीला कांग्रेस (मूपनार) के प्रमुख जीके वासन ने अरियालुर में प्रदर्शन का नेतृत्व किया। केन्द्र सरकार पर दोषारोपण करते हुए उन्होंने कहा कि ‘वह अपने प्राकृतिक रुख से पलट गयी है’ और बोर्ड का विरोध करके कर्नाटक का साथ दे रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग