ताज़ा खबर
 

सेवा से हटाने के बाद म्यूजियम में रखा जाएगा आइएनएस विराट

भारतीय नौसेना के सबसे पुराने विमानवाहक पोत आइएनएस विराट को सेवा से हटाने के बाद लग्जरी होटल-सह-संंग्रहालय में बदलने पर आंध्रप्रदेश सरकार से बातचीत चल रही है। पोत के 2017 के मध्य से सेवा से हटने की संभावना है।
Author विशाखापत्तनम | December 4, 2016 01:49 am

भारतीय नौसेना के सबसे पुराने विमानवाहक पोत आइएनएस विराट को सेवा से हटाने के बाद लग्जरी होटल-सह-संंग्रहालय में बदलने पर आंध्रप्रदेश सरकार से बातचीत चल रही है। पोत के 2017 के मध्य से सेवा से हटने की संभावना है। ‘नौसेना दिवस समारोह’ से पहले आइएनएस शक्ति पर बातचीत मेंं पूर्वी नौसेना कमान के फ्लैग आॅफिसर कमांंडिग-इन-चीफ वाइस-एडमिरल एचसीएस बिष्ट ने कहा कि इस युुद्धपोत को प्राप्त करने के इच्छुक लोगोंं में आंंध्रप्रदेश सबसे मजबूत दावेदार था। उन्होंंने कहा कि आंंध्रप्रदेश सरकार ने आइएनएस विराट को सेवा से हटाने के बाद पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए विशाखापत्तनम मेंं रखने और पोत को संग्रहालय के रूप मेंं विकसित करने में गहरी दिलचस्पी जताई है।

बिष्ट ने कहा, ‘विजयवाड़ा में मुुख्यमंंत्री एन. चंद्रबाबुु नायडू के साथ हाल में हुई बैठक में आइएनएस विराट को संंग्रहालय-सह-लग्जरी होटल के रूप में विकसित करने के तरीकों और वित्तीय पहलूओं पर मैंने चर्चा की।’ सूत्रों के अनुसार, राज्य सरकार ने आइएनएस विराट को 500 कमरोंं वाले होटल के रूप मेंं विकसित करने की योजना बनाई है। रॉयल नेवी (ब्रिटिश नौसेना) की 27 वर्ष की सेवा सहित कुल 55 वर्ष की सेवा के बाद आइएनएस विराट 2016 के अंंत मेंं या अगले वर्ष के पूर्वाद्ध में सेवा से हटाने की संंभावना है।
नौसेना की विभिन्न मौजूदा परियोजनाओंं के बारे मेंं पूर्वी नौसेना कमान के प्रमुख ने कहा कि भारत की पहली स्वदेशी परमाणुु पनडुब्बी आइएनएस अरिहंत का अब भी समुद्री परीक्षण चल रहा है और उसे नौसैनिक बेड़े मेंं शामिल करने मेंं और कुछ वक्त लगेगा। उन्होंंने कहा, आइएनएस अरिहंंत मेंं परमाणु हथियार से लैस बैलिस्टिक मिसाइल के परिवहन की क्षमता है। अरिहंंत निर्माण की परियोजना 26 जुलाई, 2009 मेंं विजय दिवस (करगिल युुद्ध की बरसी) के अवसर पर तत्कालीन प्रधानमंंत्री मनमोहन सिंह ने शुरू की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग