December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

श्रीनगर में लगा इतवार बाजार, समूची घाटी में बैंक में कतार

घाटी में अशांति की वजह से दो पुलिसकर्मियों सहित 85 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि कई हजार अन्य जख्मी हैं।

Author श्रीनगर | November 13, 2016 15:40 pm
श्रीनगर में जामा मस्ज़िद के बाहर कर्फ्यू के दौरान तैनात सीआरपीएफ़ का जवान। (PTI Photo by S Irfan/11 ov, 2016)

श्रीनगर में रविवार (13 नवंबर) को सैकड़ों रेहड़ी पटरी वालों ने साप्ताहिक बाजार में अपनी दुकानें लगाईं जबकि 500 और 1000 रुपए के नोटों को बंद करने के मद्देनजर समूचे कश्मीर में बैंकों में उपभोक्ताओं की भीड़ रही। अशांति से प्रभावित घाटी में यह समान्य स्थिति लौटने की झलक है। जुलाई के महीने में हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकी बुरहान वानी को मार गिराने के बाद कश्मीर में अशांति से जनजीवन पंगु बना हुआ था। अधिकारियों ने कहा कि श्रीनगर में लोगों की गतिविधियों में और बसों को छोड़ सार्वजनिक परिवहन में बढ़ोतरी देखी गई है। निजी गाड़ियों के अलावा ऑटो रिक्शा और अंतर जिला कैब भी बड़ी संख्या में चल रही हैं। उन्होंने कहा कि सैकड़ों रेहड़ी पटरी वालों ने इतवार बाजार में अपनी दुकानें लगाई हैं और टीआरसी चौक-बटमालू पर सर्दियों की खरीदारी करने के लिए लोगों की भीड़ रही।

अधिकारियों ने बताया कि सिविल लाइंस और शहर के बाहरी इलाकों के साथ ही अन्य जिलों के कुछ ग्रामीण इलाकों में भी दुकानें खोली गईं थीं। समूची घाटी में बैंक खुले हुए थे और उपभोक्ता 500 और 1000 रुपए के नोट बदलवाने के लिए कतारों में खड़े थे। बहरहाल, अलगाववादियों द्वारा प्रायोजित हड़ताल की वजह से घाटी के बाकी के हिस्सों में ज्यादा दुकानें, ईंधन केंद्र और अन्य कारोबारी प्रतिष्ठान बंद ही रहे। अलगाववादियों ने साप्ताहिक प्रदर्शन का कार्यक्रम घोषित किया है। घाटी में अशांति की वजह से दो पुलिसकर्मियों सहित 85 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि कई हजार अन्य जख्मी हैं। संघर्षों में तकरीबन 5000 सुरक्षा कर्मी भी घायल हुए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 13, 2016 3:37 pm

सबरंग