December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

कश्मीर: पुलिस कार्रवाई में पांच महीने में 9000 लोग घायल, इनमें 1200 बच्चे

8 जुलाई को हिजबुल कमांडर बुरहान वानी को मार गिराए जाने के बाद घाटी में भड़की हिंसा में घायल हुए 9010 लोगों में 1248 ऐसे बच्चे हैं जिनकी उम्र 15 साल से भी कम है।

आधिकारिक सूत्र ने बताया कि श्रीनगर के तीन प्रमुख हॉस्पिटल में ऐसे 1300 घायल लोग मिले, जिनकी आंख में पेलेट गन लगी थी।

जम्मू-कश्मीर सरकार ने कुछ आंकड़े जारी किए हैं, जिनके मुताबिक 8 जुलाई को हिजबुल कमांडर बुरहान वानी को मार गिराए जाने के बाद घाटी में भड़की हिंसा में घायल हुए 9010 लोगों में 1248 ऐसे बच्चे हैं जिनकी उम्र 15 साल से भी कम है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग को घाटी के विभिन्न अस्पतालों से मिले डेटा के मुताबिक 2 नवंबर तक अस्पताल में भर्ती घायल लोगों की कुल संख्या 9010 है। इनमें से 6205 पेलेट गन से जख्मी हुए, 365 गोली से जख्मी हुए, वहीं 2436 लोग “अन्य चोटों” से घायल हुए हैं। हालांकि “अन्य चोटों” से क्या तात्पर्य था यह साफ नहीं किया गया, लेकिन एक अधिकारी ने हमारे सहयोगी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि ये लोग पुलिस और सिक्योरिटी फोर्स की पिटाई में घायल हुए हैं।

सूची में यह भी साफ नहीं किया गया कि आंख में पेलेट गन लगने से कितने लोग घायल हुए हैं, हालांकि आधिकारिक सूत्र ने बताया कि श्रीनगर के तीन प्रमुख हॉस्पिटल में ऐसे 1300 घायल लोग मिले, जिनकी आंख में पेलेट गन लगी थी। सूत्रों ने बताया कि इनमें से अधिकतर युवा हैं और पेलेट गन से कुछ पूरी तरह अंधे हो गए हैं और कुछ की एक आंख की रोशनी चली गई है। आंकड़ों के मुताबिक, घायलों में 12 साल से कम उम्र के 243 बच्चे हैं और 12-15 साल की उम्र के 1005 बच्चे हैं।

वीडियो: छात्रों ने मेस से ली ब्रेड, स्‍कूल ने चोर बताकर किया सस्‍पेंड

डेटा में बताया गया कि घायल होने वाले बच्ची की संख्या सबसे कम सेंट्रल कश्मीर में रही, वहीं सबसे ज्यादा लोग पुलवामा इलाके में घायल हुए। यहां 1571 लोग सरकारी अस्पतालों में भर्ती हैं। अन्य जिलों की बात करें तो अनंतनाग में 1417 लोग, कुल्गाम में 1391 लोग, शोपियां में 1002 लोग, बारामुला में 1287 लोग, बंदीपोर में 756 लोग, कुप्वाड़ा में 989 लोग घायल हुए।

आपकों बता दें कि हिजबुल मुजाहिद्दीन कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद घाटी में लगातार अशांति बनी हुई है। इन चार महीनों में कश्मीर में जमकर हिंसा हुई। कश्मीर में हिसा के दौरान उग्र भीड़ को काबू में लाने के लिए पैलेट गन का भी इस्तेमाल किया गया। पैलेट गन के इस्तेमाल से कई लोगों की आखों में चोटें आईं, जिस वजह से इसके इस्तेमाल को लेकर काफी विवाद भी हुआ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 11, 2016 8:17 am

सबरंग