December 04, 2016

ताज़ा खबर

 

जम्मू और कश्मीर: श्रीनगर में कई जगह से कर्फ्यू हटा

कर्फ्यू हटाने के बाद शहर में वाहनों और लोगों की आवाजाही में बढ़ोतरी देखी जा रही है।

Author श्रीनगर | October 30, 2016 02:50 am
कश्मीर।

श्रीनगर से शनिवार को कर्फ्यू हटा दिया गया जिससे वहां लोगों की और वाहनों की आवाजाही तेज हो गई। वहीं कश्मीर घाटी मेंं लोगों के एकत्र होने पर अब भी प्रतिबंध लगा हुआ है। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि शहर के उन छह थाना क्षेत्रों से कर्फ्यू हटा दिया गया है, जहां शुक्रवार को यह लगाया गया था।उन्होंने बताया कि शहर के नौहट्टा इलाके में जामिया मस्जिद तक मार्च निकालने के अलगाववादियों के आवाह्न के मद्देनजर कानून व व्यवस्था बनाए रखने के लिए शुक्रवार को यहां कर्फ्यू लगाया गया था, लेकिन शनिवार सुबह स्थिति में सुधार देखते हुए उसे हटा दिया गया। अधिकारी ने बताया कि कश्मीर में लोगों की आवाजाही पर कहीं भी प्रतिबंध नहीं है, लेकिन सीआरपीसी की धारा 144 के तहत पूरी घाटी में कहीं भी लोगों के एकत्रित होने पर प्रतिबंध हैं।

उन्होंने कहा कि कर्फ्यू हटाने के बाद शहर में वाहनों और लोगों की आवाजाही में बढ़ोतरी देखी जा रही है। निजी कार और आॅटो रिक्शा भी आज सड़कों पर पहले की तुलना में अधिक दिखें । टीआरसी चौक-बटमालू में रेहड़ी पटरी वाले भी वापस लौट आए, वहीं श्रीनगर के बाहरी इलाकों और सिविल लाइन में भी कई दुकानें खुलीं। हालांकि लगातार 113वें दिन भी कश्मीर घाटी में अलगाववादियों द्वारा आहूत बंद के कारण आम जनजीवन बाधित रहा। अधिकारी ने बताया कि संवेदनशील स्थानों और मुख्य मार्गों के पास ऐहतियाती तौर पर बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है, ताकि कानून व व्यवस्था बनी रहे और लोग दैनिक कार्य के लिए सुरक्षित महसूस करें। आठ जुलाई को सुरक्षा बलों के साथ हुई एक मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से ही अलगाववादी समूहों का विरोध प्रदर्शन जारी है।

आतंकवाद के मुद्दे पर बोले गृह मंत्री राजनाथ सिंह; कहा- “आतंकवाद कमज़ोर लोगों का हथियार”

 

घाटी में जारी झड़पों में अभी तक दो पुलिस कर्मियों समेत 85 लोगों की मौत हो चुकी है और कई हजारों घायल हुए हैं। झड़पों में सुरक्षा बलों के करीब 5,000 कर्मी भी घायल हुए हैं। जन सुरक्षा अधिनियम (पीएसए) के तहत 300 से अधिक लोगों पर मामला दर्ज किया गया है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 30, 2016 2:50 am

सबरंग