December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

जम्मू-कश्मीर: जुलाई के बाद पहली बार जुम्मे पर हटा कर्फ्यू

जुलाई की शुरुआत में हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकी बुरहान वानी की मौत के बाद जम्मू कश्मीर के इलाकों में हिंसा भड़क गई थी। जिसके बाद स्थिति में सुधार के लिए इलाके में कर्फ्यू का सहारा लिया गया था।

श्रीनगर में सुरक्षा जवानों पर पत्थर फेंकते प्रदर्शनकारी। (PTI Photo: 2 नवंबर)

शुक्रवार 4 नवंबर को जुलाई के बाद पहली बार ऐसा मौका है जब जुम्मे (शुक्रवार) के दिन लोगों को कर्फ्यू का सामना नहीं करना होगा। जुम्मे की नमाज के लिए यहां भारी संख्या में भीड़ इकट्ठा होती है, जिसे देखते हुए प्रशासन कर्फ्यू लगा देता था। बीते शुक्रवार 28 अक्टूबर को भी शहर के नौहट्टा इलाके में जामिया मस्जिद तक मार्च निकालने के अलगाववादियों के आवाह्न के मद्देनजर कानून व व्यवस्था बनाए रखने के लिए शुक्रवार को यहां कर्फ्यू लगाया गया था, लेकिन शनिवार सुबह स्थिति में सुधार देखते हुए उसे हटा दिया गया था। जुलाई की शुरुआत में हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकी बुरहान वानी की मौत के बाद जम्मू कश्मीर के इलाकों में हिंसा भड़क गई थी। जिसके बाद स्थिति में सुधार के लिए इलाके में कर्फ्यू का सहारा लिया गया था। इसके बाद इस शुक्रवार जुलाई के बाद यह पहला मौका होगा जब यहां जुम्मे के दिन कर्फ्यू नहीं मिलेगा।

घाटी में सुधरते हालातों को देखते हुए प्रशासन ने इस शुक्रवार लोगों को कर्फ्यू से निजात दी है। एक अधिकारी ने बताया, “आज कश्मीर में कहीं भी कर्फ्यू नहीं है। लेकिन श्रीनगर जिले के बाटामालो इलाके में कानून व्यवस्था बनाए रखने के मद्देनजर कर्फ्यू जैसा प्रतिबंध जरूर लगा है।” उन्होंने कहा कि यहां कि स्थिति में काफी सुधार हुआ है। कर्फ्यू हटाने के बाद शहर में वाहनों और लोगों की आवाजाही में बढ़ोतरी देखी जा रही है। दिन प्रतिदिन निजी कार और ऑटो रिक्शा भी सड़कों पर पहले की तुलना में अधिक दिख रहे हैं।

वीडियो: सर्जिकल स्ट्राइक के बाद बंद हुए स्कूलों में फिर से लौटी रौनक; खुश नज़र आए बच्चे

हालांकि, बीती रात एक स्कूल को आग लगा देने की घटना और अलगाववादियों द्वारा जारी हड़ताल के चलते घाटी में लगातार 119वें दिन आम जनजीवन थोड़ा प्रभावित रहा। बता दें कि जम्मू कश्मीर में पिछले दो महीनों में 27 स्कूलों में आग लगाई जा चुकी है। यह सब आतंकी संगठन हिजबुल कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से शुरु हुआ। सरकार ने इसके लिए अलगाववादियों को निशाना बनाया, वहीं अलगाववादियों ने स्कूल में आगजनी के लिए भारतीय एजेंसियों को जिम्मेदार बताया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 4, 2016 1:21 pm

सबरंग