May 30, 2017

ताज़ा खबर

 

वीडियो: यहां हर किलोमीटर पर मिलते हैं 15 मगरमच्‍छ, मौत के कुएं से कम नहीं है 45 किमी का एरिया

राज्य सरकार के निर्देश पर वन विभाग द्वारा हाल ही में की गई गणना के अनुसार, शुक्ल तीर्थ से नारेश्वर घाट तक यानी की 45 किमी के दायरे में 700 मगरमच्छों के होने की बात सामने आई है।

दोस्त की जान बचाने के लिए पानी के अंदर मगरमच्छ से लड़ गई बच्ची। (Representative Image)

वडोदरा के लक्ष्मी विलास पैलेस लान में धूप सेंक रहे सात फुट लंबे मगरमच्छ को वन विभाग की टीम ने रेस्क्यू किया है। इस मगरमच्छ को स्थानीय लोगों ने देखा और इसकी जानकारी प्रशासन को दी। वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि यह मगरमच्छ विश्वामित्र नदी से निकलकर बाहर आया होगा। गौरतलब है कि विश्वामित्र नदी लक्ष्मी विलास पैलेस के पीछे से ही होकर बहती है।

बारिश का मौसम आते ही जहां लोग खुशियां मनाते लगते हैं वहीं, गुजरात के वडोदरा शहर के लोगों की चिंता बढ़ जाती हैं। इसका कारण हैं शहर के बीचों-बीच बहने वाली विश्वामित्र नदी में बसाहट करने वाले सैकड़ों खूंखार मगरमच्छ। विश्वामित्र नदी में मगरमच्छों की संख्या अधिक होने की वजह से मानसून में नदी का जलस्तर बढ़ने पर बाढ़ के पानी के साथ शहर में उनके घुस आने का भी खतरा बढ़ जाता है।

वीडियो: वडोदरा के लक्ष्मी विलास पैलेस से वन विभाग की टीम ने एक 7 फुट लंबे मगरमच्छ को रेस्क्यू किया

राज्य सरकार के निर्देश पर वन विभाग द्वारा हाल ही में की गई गणना के अनुसार, शुक्ल तीर्थ से नारेश्वर घाट तक यानी की 45 किमी के दायरे में 700 मगरमच्छों के होने की बात सामने आई है। यह न सिर्फ चौंकाने वाला आंकड़ा है, बल्कि खतरनाक भी। इतना ही नहीं, विश्वामित्र नदी में पानी बढ़ने पर मगरमच्छ आसानी से नदी पर बने पुलों पर भी आराम फरमाते नजर आते हैं।

शहरवासियों को प्रतिवर्ष नदी में आने वाली बाढ़ का सामना करना पड़ता है। साथ ही, इन मगरमच्छों से निपटना भी उनके लिए बड़ी चुनौती होती है। एक रिपोर्ट के अनुसार, वडोदरा की विश्वामित्र दुनिया की तीसरी ऐसी नदी है, जिसमें मगरमच्छों की भरमार है। और यह नदी सैकड़ों किमी की लंबाई तक मानव बस्ती के बीच से ही बहती है। आमतौर पर मगरमच्छ इंसानों के बीच बसाहट नहीं करते। प्राप्त जानकारी के अनुसार, इस नदी में 10 फुट तक लंबे सैकड़ों मगरमच्छ हैं।

Read Also: वडोदरा में ताजिए पर ईंट फेंकने के बाद दो समुदायों में झगड़ा, पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 14, 2016 2:29 pm

  1. No Comments.

सबरंग