ताज़ा खबर
 

हॉस्पिटल में महिला का डॉक्टरों ने नहीं किया इलाज, बाहर सड़क पर ही दिया बच्चे को जन्म

जयपुरिया अस्पताल में अशोक बाई करीब आधे घंटे तक लेबर रूम में रही लेकिन किसी भी डॉक्टर ने आकर उसकी जांच नहीं की।
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

बीजेपी शासित राज्य में एक बार फिर से एक नामी अस्पताल द्वारा  लापरवाही करने का मामला सामने आया है जहां पर डॉक्टरों ने एक गर्भवती महिला को लेबर पैन के वक्त अटेंड नहीं किया तो मजबूरन महिला को सड़क पर अपने बच्चे को जन्म देना पड़ा। यह मामला जयपुर के मल्टी स्पेशलिटी जयपुरिया अस्पताल का है। प्राप्त जानकारी के अनुसार निर्माण कार्यों में मजदूर का काम करने वाली आशोक बाई को संगनेर क्षेत्र के एक सामुदायिक चिकित्सक केंद्र में प्रसव पीड़ा के कारण भर्ती कराया गया था। यहां पर अशोक बाई का बल्ड प्रेशर और अन्य जांच की गई तो डॉक्टरों ने उसकी हालत गंभीर पाई जिसके बाद उन्होंने अशोक बाई को पास के ही जयपुरिया अस्पताल में रेफर कर दिया जो कि सरकारी ईकाइ का अस्पताल है।

जयपुरिया अस्पताल में अशोक बाई करीब आधे घंटे तक लेबर रूम में रही लेकिन किसी भी डॉक्टर ने आकर उसकी जांच नहीं की। अशोक बाई के परिवार ने जब डॉक्टरों से कहा कि उसे दर्द हो रहा है तो डॉक्टरों ने जवाब दिया कि अगर इतनी ही जल्दी है तो किसी अन्य अस्पतला में लेकर चले जाओ। एनडीटीवी के अनुसार इसके बाद आशोक बाई के परिजन उसे जयपुरिया अस्पताल से निकालकर दूसरे अस्पताल ले जाने लगे कि तभी उसे ज्यादा प्रसव पीड़ा होने लगी। इसी बीच अशोक बाई को और ज्यादा पीड़ा होने लगी और उसने पास से गुजर रहे लोगों की मदद से सड़क पर ही बच्चे को जन्म दे दिया।

इसी बीच किसी व्यक्ति ने एंबुलेस को फोन कर बुला लिया जिसके बाद उसे फिर से सामुदायिक चिकित्सक केंद्र ले जाया गया जहां पर अशोक बाई का इलाज किया गया। यहां के एक सीनियर डॉक्टर राजेंद्र पटनी ने बताया कि जब अशोक बाई को अस्पताल लाया गया तो बच्चा उसके गर्भनाल से जुड़ा हुआ था। हमने जल्द ही उसका उपचार शुरु कर बच्चे को गर्भनाल से अलग किया। फिलहाल अशोक बाई और उसका बच्चा दोनों ठीक है। इस बारे में जब जयपुरिया अस्पताल के डॉक्टरों से पूछा गया तो उन्होंने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों से इनकार कर दिया।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग