ताज़ा खबर
 

पुलिस एनकाउंटर में मारा गया कुख्‍यात गैंगस्‍टर आनंदपाल सिंह, परिवार का आरोप- फर्जी है मुठभेड़

वहीं कल राजस्थान पुलिस आनंदपाल सिंह का शव चौबीस घंटे में लेने के लिए उसके मकान पर नोटिस चस्पा कर दिया था।
Author July 12, 2017 12:48 pm
24 जून को मालासर में एक मकान में छिपे आनंदपाल को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया था। (Photo: Youtube)

गत शनिवार को पुलिस मुठभेड़ में मारे गये कुख्यात अपराधी आनंदपाल के परिजनों ने गुरुवार (29 जून) को चूरू की एक अदालत में आनंदपाल के शव का पोस्टमार्टम नई दिल्ली स्थित एम्स के मेडिकल बोर्ड द्वारा कराये जाने के लिये अर्जी दायर की है। मृतक के वकील ए पी सिंह ने बताया कि चूरू की जिला एवं सत्र न्यायालय में गुरुवार को एक अर्जी पेश कर आनंदपाल सिंह के शव का पोस्टमार्टम आल इंडिया इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल सांईस (एम्स) में कराये जाने का अनुरोध किया है।

उन्होंने चूरू के मालेसर में पुलिस मुठभेड़ में मारे गये आनंदपाल की सीबीआई जांच की मांग करते हुए मुठभेड़ को फर्जी होने का आरोप भी लगाया है। गत रविवार को आनंदपाल के शव का पोस्टमार्टम चूरू के रतनगढ के अस्पताल में किया गया था। शव रतनगढ अस्पताल के मुर्दाघर में रखा हुआ है। पुलिस ने कल मृतक के परिजनों द्वारा शव को लेने का नोटिस नहीं लेने पर पुलिस ने मकान पर यह नोटिस चस्पा कर 24 घंटों में (आज सुबह तक) शव नहीं लेने पर पुलिस द्वारा अंतिम संस्कार कर देने की हिदायत दी गई थी।

गौरतलब है कि मृतक आनंदपाल के परिजनों ने पुलिस मुठभेड़ की सीबीआई जांच की मांग को लेकर शव को लेने से इंकार कर दिया है। मृतक के परिजनों और रिश्तेदारों के अलावा बड़ी संख्या में राजपूत समाज के नेता ओर समर्थक नागौर के सांवरदा गांव में जमा है। रतनगढ़ और सांवरदा में सुरक्षा के कडे़ बंदोबस्त किये गये हैं।

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ विधायक घनश्याम तिवारी ने गुरुवार को जारी बयान में पुलिस मुठभेड पर संदेह जताते हुए कहा है कि सरकार इस मामले की सीबीआई से जांच करवाने से क्यों बचाना चाह रही है जबकि गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया कह चुके हैं कि वे किसी भी तरह की जांच के लिये तैयार हैं।

वहीं कल राजस्थान पुलिस आनंदपाल सिंह का शव चौबीस घंटे में लेने के लिए उसके मकान पर नोटिस चस्पा कर दिया था। पुलिस अधीक्षक (नागौर) पारिस देशमुख ने बताया कि मृतक आनंदपाल सिंह का शव लेने के लिए उसके परिजनों को नोटिस देने पुलिस का एक दल गांव सावंराद गया था लेकिन परिजनों द्वारा नोटिस नहीं लिए जाने पर मकान पर यह नोटिस चस्पा किया गया है।

नोटिस में परिजनों को चौबीस घंटे के भीतर आनंद पाल सिंह का शव लेने के लिए कहा गया है और कहा गया है कि ऐसा न किए जाने पर पुलिस अपने स्तर पर शव का अन्तिम संस्कार कर देगी। उन्होंने बताया कि पुलिस अधिनियम की धारा 1965 के तहत यह नोटिस जारी कर परिजनों से चौबीस घंटे में शव लेने को कहा गया है। पुलिस मुठभेड़ में मारे गये कुख्यात अपराधी आनंदपाल सिंह का शव रतनगढ़ के राजकीय अस्पताल के मुर्दाघर में पोस्टमार्टम के बाद गत चार दिन से रखा हुआ है। पुलिस ने सावंराद गांव में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया है।

इधर, चुरू जिला प्रशासन ने ऐहतियात के तौर पर रतनगढ़ में कल रात धारा 144 लागू कर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया है।

बता दें कि 24 जून को मालासर में एक मकान में छिपे आनंदपाल को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया था। पुलिस पिछले तीन दिन से उसके परिजनों से शव लेने का आग्रह कर रही है। मृतक के परिजन इस मामले की सीबीआई जांच कराने समेत सात सूत्रीय मांगें माने जाने के बाद ही शव लेने की जिद पर अड़े हुए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.