ताज़ा खबर
 

मेवात में छात्रों की नसबंदी की अफवाह के चलते डर का माहौल, बच्चों ने स्कूल जाना छोड़ा

दो दिनों से चल रही इस अफवाह के कारण विद्यालयों में बच्चों की गैर हाजरी के बाद शुक्रवार को जिला शिक्षा अधिकारी डा. दिनेश शास्त्री ने जिले के प्राइवेट तथा सरकारी विद्यालयों के प्रिंसिपलों की एक आपात बैठक बुलाई।
इस समय परीक्षाएं भी चल रही हैं और बच्चे जबरन टीका लगाकर नपुसंक बनाने की अफवाह से दहशत में हैं।

मेवात क्षेत्र में इन दिनों स्कूली बच्चों के बीच नसबंदी की अफवाह फैली हुई है। इस दहशत में सैंकड़ों गांवों के बच्चों ने स्कूल जाना बंद कर दिया है। बच्चों में अफवाह है कि सरकार ने टीकाकरण के नाम पर जनसंख्या नियंत्रण के लिए अभियान चला रखा है। टीके बच्चों के नाभी के पास लगाए जा रहे हैं, जिससे बच्चों में नपुंसकता आती है। इसी दहशत में बड़ी संख्या में बच्चों ने स्कूल जाना बंद कर दिया है। बच्चों के स्कूल नहीं आने से शिक्षक और अभिभावक भी काफी परेशान हैं। कई परिजनों में तो इतना डर बना हुआ है कि वो गांवों में आने वाले डॉक्टरों को देखते ही अभद्रता शुरु कर देते हैं। उन्हें परिजन साफ कह देते हैं हम मर जाएंगे, लेकिन बच्चों को टीका नहीं लगवाएंगे। अभियान के तहत गांवों में टीकाकरण की स्थिति 10 फीसदी तक भी नहीं पहुंची है।

वहीं इस समय परीक्षाएं भी चल रही हैं और बच्चे जबरन टीका लगाकर नपुसंक बनाने की अफवाह से दहशत में हैं। पिछले एक सप्ताह से अलवर जिले के मेव बाहुल्य क्षेत्र में राजकीय विद्यालय में विद्यार्थियों की संख्या आधे से कम हो गई है। राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय की हेड मास्टर सफिया रहमत ने बताया कि क्षेत्र के गांवों में किसी ने अफवाह फैला दी है कि सरकारी विद्यालयों में छात्रों को इंजेक्शन लगाए जा रहे हैं, जिससे मेव समाज के लड़के-लड़कियों में नपुंसकता होगी।

उधर, छात्रों के स्कूल नहीं आने से शिक्षक परेशान हैं। शिक्षक और अन्य स्टाफ गांव में अभिभावकों को समझाने की कोशिश में लगे हुए हैं। जिससे बच्चे स्कूल आकर पढ़ाई पूरी कर सके। इस अफवाह को दूर करने के लिए मेव समाज के पूर्व सदर शेर मोहम्मद सहित दर्जनों लोग गांवों का दौरा कर लोगों से अपील कर रहे हैं कि सरकार द्वारा ऐसा कोई भी अभियान नहीं चलाया जा रहा है। यह कोरी अफवाह है।

दो दिनों से चल रही इस अफवाह के कारण विद्यालयों में बच्चों की गैर हाजरी के बाद शुक्रवार को जिला शिक्षा अधिकारी डा. दिनेश शास्त्री ने जिले के प्राइवेट तथा सरकारी विद्यालयों के प्रिंसिपलों की एक आपात बैठक बुलाई। बैठक के दौरान जिला शिक्षा अधिकारी ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि ये एक कौरी अफवाह है। जिस पर क्षेत्र के लोगों को ध्यान देने की जरूरत नहीं है।

देखिए वीडियो - केरल का मलप्पुरम और राजस्थान का नया गांव बने ‘कैशलेस’; जानिए सच्चाई

ये वीडियो भी देखिए - हार्दिक पटेल को राजस्थान में गिरफ्तार करने के बाद किया रिहा; केजरीवाल ने गिरफ्तारी को बताया ‘बेतुका’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग