ताज़ा खबर
 

राजस्थान में आतंकी ओसामा बिन लादेन का आधार बनाने की कोशिश, पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार

शिकायत के आधार पर पुलिस ने आरोपी मंसूरी के खिलाफ आईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है।
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप में किया गया है (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

राजस्थान के भीलवाड़ा मंडल में एक 25 साल के यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) ऑपरेटर द्वारा आतंकी संगठन अलकायदा के पूर्व चीफ ओसामा बिन लादेन के नाम पर आधार कार्ड बनाने का मामला सामने आया है। हालांकि UIDAI ने ऑपरेटर के इस मामले को पकड़ लिया है और आरोपी ऑपरेटर के खिलाफ शुक्रवार (12 मई, 2017) को मामले में शिकायत दर्ज करा दी है।

मामले में पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि आरोपी सद्दाम मंसूरी भीलवाड़ा मंडल में आधार पंजीकरण केंद्र चलाता है जोकि बीते दिनों आतंकी ओसामा बिन लादेने के नाम का आधार कार्ड बनाने की कोशिश कर रहा था। आधार बनाने के दौरान मंसूरी ने आंतकी लादेन का पता एबटाबाद, जिला भीलवाड़ा डाला था। साथ ही आरोपी ने आंतकी की धुंधली तस्वीर भी अपलोड की थी। हालांकि आरोपी ने आतंकी के अंगूठे के निशान और पहचान से जुड़ी जानकारी अपलोड नहीं की। ये बात भीलवाड़ा मंडल के डिप्टी एसपी चंचल मिश्रा ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताई है।

वहीं भीलवाड़ा आईटी मंडल सर्कल प्रोग्रामर संजय अलुदिया ने बताया कि मंसूरी द्वारा आंतकी से जुड़ी जानकारी अपडेट करने के बाद UIDAI वेरिफिकेशन विभाग ने डाटा बेस को लेकर कुछ गलतियां पकड़ी। उन्होंने बताया कि उसमें ना तो अंगुलियों की पहचान थी और ना आंख की पुतलियों की पहचान थी। हालांकि फार्म में एड्रेस के नाम पर एबटाबाद, भीलवाड़ा मंडल गांव लिखा था। जिसके बाद नई दिल्ली की टेक्निकल टीम ने मामले को गंभीरता से लेते हुए राजस्थान के आईटी विभाग को इसकी जानकारी दी। संजय अलुदिया ने आगे बताया कि मुझे जयपुर ऑफिस से फोन आया जिसके बाद आरोपी के खिलाफ तुंरत एफआईआर दर्ज करा दी गई।

वहीं अलुदिया की शिकायत के आधार पर पुलिस ने आरोपी मंसूरी के खिलाफ आईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस ने आगे जानकारी देते हुए कहा कि उन्होंने मामले में छानबीन शुरू कर दी है और उन्हें आईटी विभाग द्वारा मुहैया कराए जाने वाले सबूतों का इंतजार है। वहीं पुलिस ने आगे बताया कि सारे सबूत मिलने बाद आरोपी से पूछताछ की जाएगी की उसने आतंकी के नाम पर आधार कार्ड बनाने की कोशिश क्यों की। दूसरी तरफ मामले में आरोपी मंसूरी का कहना है कि वो निर्दोष है, उसने किसी शख्स के कहने पर आतंकी के नाम का आधार बनाने की कोशिश की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग