ताज़ा खबर
 

कश्‍मीरी हैं, जानकर मेवाड़ यूनिवर्सिटी के स्‍टूडेंट्स को स्‍थानीय लोगों ने पीटा, विरोध में भूखे सोए कई छात्र

मेवाड़ विश्ववविद्यालय के एक अधिकारी ने कहा, "इन विद्यार्थियों ने रात का खाना भी खाया और कहीं कोई विरोध प्रदर्शन नहीं हुआ।
Author April 20, 2017 17:01 pm
इस तस्वीर का इस्तेमाल क

राजस्थान के मेवाड़ विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले कश्मीरी विद्यार्थियों के साथ चित्तौड़गढ़ जिले में कुछ स्थानीय लोगों ने मारपीट की, जिसमें छह कश्मीरी विद्यार्थी घायल हो गए। एक कश्मीरी विद्यार्थी ने गुरुवार (20 अप्रैल) को यह जानकारी दी। अपनी पहचान गोपनीय रखने की शर्त पर विद्यार्थी ने बताया, “बुधवार की शाम 6.0 बजे गंगरार कस्बे के नजदीक कम से कम नौ कश्मीरी विद्यार्थियों की लाठी और बैट से पिटाई की गई। स्थानीय लोगों को जब पता चला कि हम कश्मीरी हैं तो उन्होंने हमें निशाना बनाया। कम से कम छह विद्यार्थी हमले में घायल हुए हैं।”

विश्वविद्यालय प्रशासन का हालांकि कहना है कि विद्यार्थी विश्वविद्यालय परिसर के नजदीकी बाजार की ओर जाते समय स्थानीय लोगों से उलझ गए थे।

कश्मीरी विद्यार्थी ने बताया कि बुधवार को विश्वविद्यालय में करीब 250 कश्मीरी विद्यार्थियों ने विरोध प्रदर्शन किया और कइयों ने विरोधस्वरूप रात का खाना भी नहीं खाया। हालांकि, विश्वविद्यालय प्रशासन ने किसी तरह के विरोध प्रदर्शन से इनकार किया है।

मेवाड़ विश्ववविद्यालय के एक अधिकारी ने कहा, “इन विद्यार्थियों ने रात का खाना भी खाया और कहीं कोई विरोध प्रदर्शन नहीं हुआ। विश्वविद्यालय में पठन-पाठन का कार्य पहले की तरह ही चल रहा है।”

गंगरार थानाधिकारी दिनेश कुमार ने बताया कि निजी मेवाड़ विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले ये छात्र घरेलू सामान खरीदने गये थे। इसी दौरान अज्ञात लोगों ने उनके नाम और पते पूछने के बाद मारपीट की। घटना के बाद वह लोग दुपहिया वाहनों पर बैठकर भाग गए। कश्मीरी छात्रों को नजदीकी अस्पताल ले जाया गया जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई।

छात्रों की शिकायत के आधार पर अज्ञात लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 323 और 341 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। पुलिस के मुताबिक, जांच जारी है।

बता दें कि मेवाड़ विश्वविद्यालय में जम्मू कश्मीर के करीब आठ सौ विद्यार्थी अध्ययन कर रहे हैं।

देखिए वीडियो - कश्मीर: छात्रों ने की घाटी में पत्थरबाजी, स्कूल-कॉलेज रहेंगे बंद

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग