December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

राजस्थान में निकाय-पंचायत उपचुनावों में भाजपा की जीत

पार्टी ने कहा, नोटबंदी के प्रधानमंत्री के फैसले पर जनता ने लगाई मुहर

Author जयपुर | December 2, 2016 04:23 am
भाजपा ने गुजरात, महाराष्ट्र के बाद अब राजस्थान में भी जीत दर्ज कर ली है।

देश में नोटबंदी के बाद राजस्थान में भाजपा के ग्राफ पर कोई असर नहीं हुआ है। प्रदेश के कई जिलों में हुए स्थानीय निकाय और पंचायत के उपचुनावों में भाजपा को एक बार फिर भारी जीत हासिल हुई है। प्रदेश भाजपा ने इसे प्रधानमंत्री के नोटबंदी के फैसले के समर्थन में जनता की मोहर करार दिया है।राज्य में 29 नवंबर को कई जिला परिषदों, शहरी निकायों के साथ ही पंचायत समितियों के वार्डों के उपचुनाव हुए थे। इन उपचुनावों के वोटों की गिनती गुरुवार को हुई। मतगणना के बाद घोषित किए गए नतीजों में ज्यादातर में भाजपा को जीत हासिल हुई है।

राज्य चुनाव आयोग के अनुसार दस जिलों में दो नगर निगम, एक नगर परिषद और आठ नगर पालिकाओं के 11 वार्डों में उपचुनाव हुए थे। इसके अलावा तीन जिला परिषदों के वार्डों के, पंचायत समितियों के 23 सदस्यों और कई इलाकों में सरपंचों के लिए उपचुनाव हुए थे। इन सभी की मतगणना का काम गुरुवार सवेरे जिला मुख्यालयों पर हुआ था। बीकानेर नगर निगम के उपचुनाव में भाजपा के दाऊ दयाल शर्मा ने 1100 से ज्यादा वोट से जीत हासिल की। इसी तरह से उदयपुर नगर निगम के चुनाव में भाजपा की आभा आमेटा ने कांगे्रस उम्मीदवार पर भारी जीत दर्ज की। भीलवाड़ा और झुंझनूं जिला परिषदों के उपचुनाव में भी भाजपा को जीत हासिल हुई है। बारां और सीकर जिलों में पंचायत समिति सदस्यों के कुछ वार्डों में कांग्रेस को भी जीत हासिल हुई है। राज्य में तीन साल से शासन कर रही भाजपा को इन उपचुनावों से बड़ी राहत मिली है।

कांग्रेस को उम्मीद थी कि प्रदेश में भाजपा की वसुंधरा सरकार की जो बिगड़ी छवि से जनता उसे बड़ा समर्थन देगी, पर हालात अलग ही रहे। प्रदेश भाजपा का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस ढंग से कालेधन और भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम छेड़ी है, जनता उनके समर्थन में उतर आई है। जनता को उम्मीद है कि भाजपा गरीब वर्ग के हितों के लिए भविष्य में बड़ा काम करेगी। भाजपा ने जीत का श्रेय प्रधानमंत्री की नीतियों को दिया है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अर्चना शर्मा का कहना है कि भाजपा को एकतरफा जीत नहीं मिली है। भाजपा जिस तरह का दावा और प्रचार कर रही है, उसके वोट प्रतिशत में गिरावट आई है। कांग्रेस को भी कई जगहों पर जीत मिली है। अर्चना शर्मा का कहना है कि उपचुनावों में हमेशा सत्ताधारी दल को फायदा मिलता है। भाजपा सरकार ने इन उपचुनावों में सत्ता का बेजा इस्तेमाल किया। इसके बावजूद कांग्रेस ने कई स्थानों पर उसकी बढत को रोकने में सफलता हासिल की है।

 

 

राहुल गांधी के बाद अब कांग्रेस का ट्विटर अकाउंट हैक; किए गए आपत्तिजनक ट्वीट

नोटबंदी: फैसले के बाद कैसे चल रहा है मजदूरों का गुजारा, देखिए

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on December 2, 2016 4:23 am

सबरंग