ताज़ा खबर
 

आपत्तिजनक फोटो खींचकर 18 महीनों तक नाबालिग बच्ची को हवस का शिकार बनाते रहे आठ टीचर

आरोपी उसे ब्लैकमेल कर पिछले डेढ़ साल से उसका गैंगरेप कर रहे थे।
इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

राजस्थान में  13 वर्षीय नाबालिग लड़की के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया है। लड़की ने अपने स्कूल के शिक्षकों पर गैंगरेप करने का आरोप लगाया है। यह मामला बिकानेर के एक प्रइवेट स्कूल का है। पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज कर लिया है। पीड़िता द्वारा पुलिस को दिए गए बयान के अनुसार लड़की ने बताया कि उसके स्कूल के 8 शिक्षकों ने उसके साथ रेप किया है। उसने बताया कि पिछले डेढ़ साल से आरोपी उसे अपना शिकार बना रहे थे। यह मामला तीन महीने पहले सामने आया जब उसका बल्ड कैंसर का इलाज किया जा रहा था और वह ज्यादा बीमार हो गई थी। शुक्रवार को पीड़ित लड़की के परिजनों ने इस मामले की शिकायत नोखा पुलिस थाने में दर्ज कराई।

एक पुलिस अधिकारी द्वारा दी गई जानाकरी के मुताबिक अप्रैल 2015 में पहली बार शिक्षकों ने उसके साथ गैंगरेप किया था। इतना ही नहीं आरोपी शिक्षकों ने उस समय पीड़िता की आपत्तिजनक फोटों भी खींच ली थी। जिसके आधार पर आरोपी उसे ब्लैकमेल कर पिछले डेढ़ साल से उसका गैंगरेप कर रहे थे। इसके साथ ही आरोपी लड़की को धमकियां दिया करते थे कि इस बारे में किसी को न बताए और अगर किसी को बताया तो वह उसे जान से मार देंगे। अधिकारी ने बताया कि गैंगरेप के बाद लड़की गर्भवती भी हो गई थी। इसके बाद आरोपियों ने उसे जबरदस्ती गर्भापात की गोलियां भी खिलाई थी। उन्होंने बताया कि सभी आठ आरोपियों के खिलाफ पोस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है।

देश में महिलाओं के प्रति अपराध बढ़ते ही जा रहे हैं। यह पहला मामला नहीं है जहां पर गैंगरेप की घटना सामने आई है। इससे पहले गुजरात के मंगरोल में एक बांग्लादेशी नाबालिग के साथ गैंगरेप की घटना सामने आई थी। पुलिस को दिए अपने बयान में पीड़ित लड़की ने कहा था कि अहमदाबाद में 7 लोगों ने और मंगरोल में 14 लोगों ने उसके साथ गैंगरेप किया। उसने कहा कि उसके एक रिश्तेदार ने उसे पश्चिम बंगाल के बोंगा गांव में रहने वाले साई नामक एक एजेंट को बेच दिया था।

देखिए वीडियो - बुलंदशहर गैंगरेप पर उमा भारती बोलीं- “मेरे शासन में होता तो बलात्कारियों की चमड़ी उतरवा देती”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.