ताज़ा खबर
 

सऊदी में 17 दिनों से रखा भारतीय का शव, परिवार ने लगाई पीएम से वापस लाने की गुहार

कुंभदास ने बताया कि 19 फरवरी को उन्हे राजुदास की मौत की सूचना मिली। सूचना मिलने के बाद से पूरे गांव में मातम पसरा हुआ है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

राजस्थान का एक परिवार अपने मृतक परिजन के शव को वापस सऊदी से लाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगा रहा है। ईटीवी में छपी खबर के अनसुरा यह मामला बाड़मेर जिले के काश्मीर गांव का है जहां पर चार महीने पहले राजुदास अपने परिवार को बेहतर भविष्य देने के लिए नौकरी करने अपने एक रिश्तेदार के साथ सऊदी अरब गया था। राजुदास के भाई कुंभदास ने बताया कि राजुदास को वहां पर बकरियों को चराने का काम मिला था जिसके लिए उसे महीने का 18-20 हजार रुपए मिल रहा था। कुंभदास ने बताया कि 19 फरवरी को उन्हे राजुदास की मौत की सूचना मिली। सूचना मिलने के बाद से पूरे गांव में मातम पसरा हुआ है। कुंभदास और उसका पूरा परिवार 19 फरवरी से आजतक राजुदास का शव भारत लाने के लिए प्रयास कर रहे हैं।

जहां परिवार का रो-रोकर बुरा हाल है वहीं सऊदी में राजुदास का शव अंतिम संस्कार का इंतजार कर रहा है। उसके परिजन रोज प्रशासन और नेताओं से शव को वापस लाने की गुहार लगा रहे हैं लेकिन इस मामले में कोई उनकी सुन ही नहीं रहा है। राजुदास के परिजनों ने अब प्रधानमंत्री से मदद की गुहार लगाई है। इस मामले में जब जिला कलेक्टर को पता चला तो उन्होंने चिट्ठी लिखकर पूरे मामले की जानकारी राजस्थान सरकार को दी। यह मामला अंतरराष्ट्रीय है जिसके कारण सरकार से जवाब मिलने में समय लग रहा है। वहीं जिला कलेक्टर ने राजुदास के परिवार को भरोसा दिया है कि उनकी हर प्रकार की मदद की जाएगी।

वहीं कुंभदास ने बताया कि पूरा परिवार उसके पार्थिव शरीर को देखने के लिए परेशान है। उसने बताया कि मौत की खबर के बाद से ही पूरे परिवार ने खाना तक नहीं खाया है। राजुदास का शव वापस भारत लाने के लिए बस मदद करने का भरोसा ही दिया जा रहा है। जिसके कारण उनकी राजुदास को आखिरी बार देखने की आस भी खत्म होती दिखाई दे रही है।

देखिए वीडियो - राजस्थान: ASP आशीष प्रभाकर ने खुद को मारी गोली; कार से महिला का शव भी हुआ बरामद

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग