March 26, 2017

ताज़ा खबर

 

संजय लीला भंसाली पर हमला करने वाली करणी सेना ने अब तोड़े मशहूर चितौड़गढ़ किले के आईने

संजय लीला भंसाली की आगामी फिल्म "पद्मावती" को लेकर उनसे मारपीट करने वाले संगठन करणी सेना एक बार फिर विवादों में हैं।

चित्तौड़गढ़ के मशहूर किले में बने रानी पद्मिनी के महल में लगे आईनों को करणी सेना ने तोड़ा दिया है(फाइल फोटो)

संजय लीला भंसाली की आगामी फिल्म “पद्मावती” को लेकर उनसे मारपीट करने वाले संगठन करणी सेना एक बार फिर विवादों में हैं। राजस्थान के चित्तौड़गढ़ स्थित मशहूर पद्मिनी महल में बीते रविवार (5 मार्च) को करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने महल में लगे शीशे तोड़ दिए। दरअसल महल में लगे आईने, अलाउद्दीन खिलजी और रानी पद्मिनी की कहानी का हिस्सा बताए जाते हैं। इस बात से नाराज करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने आईनों को फोड़ डाला। कांच के बने आईने महल के गोलाकार हिस्से में लगे हैं। ऐसा माना जाता है कि टूरिस्ट गाइड्स, इन आईनों को पर्यटकों को खिलजी-पद्मिनी के प्रेम प्रसंग के सबूत के तौर पर दिखाते हैं। कहा जाता था कि इन आईनों में ही खिलजी को पद्मिनी की सूरत दिखाई गई थी।

आईनों के साथ की गई तोड़-फोड़ की जिम्मेदारी करणी सेना ने कबूल की है। करणी सेना का दावा है कि यह बात झूठ है कि रानी का चेहरा राजा को इन आईनों के जरिए दिखाया गया था। कार्यकर्ताओं के दावे के मुताबिक उस समय आईने नहीं हुआ करते थे। सेना के कार्यकर्ता टूरिस्ट बनकर महल में घुसे थे। इसके अलावा सेना के कार्यकर्ता सहदेवसिंह नारेला की ओर से कहा गया कि कुछ समय पहले पुरातत्व विभाग को आईने हटाने के लिए लिखित चेतावनी दी गई थी। चेतावनी 13 फरवरी को दी गई थी।

गौरतलब है कि फिल्म ‘पद्मावती’ में अलाउद्दीन खिलजी और रानी पद्मिनी के बीच दिखाए गए कथित प्रेम कहानी को लेकर फिल्मकार संजय लीला भंसाली के साथ मारपीट हुई थी। वहीं पुरातत्व विभाग से जब इस मामले पर जानकारी ली गई तो उन्होंने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं कि आईने किसने तोड़े। फोर्ट के केयरटेकर प्रेमचंद शर्मा के मुताबिक विभाग की ओर से कोतवाली थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दी गई है। चित्तौड़गढ़ पुलिस ने मामला दर्ज कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है।

देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on March 6, 2017 11:58 am

  1. No Comments.

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग