ताज़ा खबर
 

राजस्थान: चालान काटने पर हंगामा, वसुंधरा की विधायक का आरोप- पुलिस ने मेरी चूड़ियां तोड़ीं, साड़ी फाड़ी

राजस्‍थान भाजपा की एक महिला विधायक ने सोमवार (20 फरवरी) को कोटा पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाया।
विधायक चंद्रकांता मेघवाल और उनके समर्थक कथित तौर पर एक ट्रेफिक नियम के उल्‍लंघन को लेकर पुलिस से भिड़ गए। (File Photo)

राजस्‍थान भाजपा की एक महिला विधायक ने सोमवार (20 फरवरी) को कोटा पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाया। वहीं पुलिस ने बताया कि एक ट्रेफिक चालान को लेकर विधायक के समर्थक उग्र हो गए थे जिसके बाद लाठीचार्ज करना पड़ा। विधायक चंद्रकांता मेघवाल और उनके समर्थक कथित तौर पर एक ट्रेफिक नियम के उल्‍लंघन को लेकर पुलिस से भिड़ गए। समर्थकों ने थाने पर पथराव किया। उन पर आरोप है कि एक पुलिस अधिकारी को थप्‍पड़ भी मार दिया। तनाव बढ़ने के बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया और समर्थकों को भगाया। साथ ही विधायक और उनके पति को हिरासत में ले लिया। पुलिस ने विधायक के पति द्वारा एसएचओ को थप्‍पड़ा मारे जाने की घटना की ना तो पुष्टि की और ना ही इससे इनकार किया। इस बारे में संसदीय कार्य मंत्री राजेंद्र राठौड़ ने बताया कि स्थिति नियंत्रण में है और मुख्‍यमंत्री मामले की मॉनिटरिंग कर रही हैं।

विधायक मेघवाल का आरोप है कि सर्किल इंस्‍पेक्‍टर सहित पुलिस‍कर्मियों ने उनसे मारपीट की। उन्‍होंने बताया, ”मेरी चूडि़यां टूट गई, साड़ी फाड़ दी। मेरा हाथ भी टूट गया लेकिन वे नहीं रूके।” करीब तीन घंटे तक यह घटनाक्रम चला। स्‍थानीय मीडिया के अनुसार इस महीने की शुरुआत में भाजपा के एक कार्यकर्ता पुलिस पुलिस ने चालान काटा था। इसके बा विरोध में भाजपा कार्यकर्ता 20 फरवरी को महावीर नगर थाने पहुंचे और चालान काटने वाले पुलिसकर्मी पर कार्रवाई की मांग करने लगे। इस पर पुलिस ने कुछ कार्यकर्ताओं को थाने में ही बैठा लिया। जानकारी के बाद रामगंजमंडी से विधायक चंद्रकांता भी थाने पहुंच गई। लेकिन मामला शांत होने के बजाय और बढ़ गया। इसके बाद विधायक के पति ने भी थाने पहुंच गए और पुलिसकर्मियों से भिड़ गए। इसी दौरान धक्‍कामुक्‍की हो गई और विधायक के पैर में चोट लगी। आरोप है कि इससे गुस्‍साए विधायक के पति ने एसएचओ को थप्‍पड़ मार दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.