ताज़ा खबर
 

उत्कल एक्सप्रेस हादसा: काटने के बाद बिना वेल्डिंग छोड़ दिया गया था ट्रैक, रेलवे ने शुरू की जांच

इस हादसे में कम से कम 21 लोगों की मौत हो गयी जबकि 97 घायल हैं। घायलों में से 26 की हालत गंभीर बताई जा रही है।
उत्कल एक्सप्रेस हादसा: हादसा पुरी-हरिद्वार ट्रेन के साथ हुआ था।

उत्कल एक्सप्रेस हादसे में अज्ञात लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 304 A (अनदेखी की वजह से मौत) का मामला दर्ज हो गया है। रेलवे बोर्ड के सदस्य यातायात मोहम्मद जमशेद ने मीडिया के सामने आकर इस बारे में बात की। कुछ खबरों के मुताबिक, रेलवे ट्रैक का एक हिस्सा काटा गया था और उसको बिना वेल्डिंग किए छोड़ दिया गया था। जिसकी वजह से हादसा हुआ। इन बातों का जिक्र एक ऑडियो क्लिप के हवाले से किया जा रहा है। जमशेद ने कहा कि शुरुआती जांच में यह पाया गया है कि जिस जगह शनिवार (19 अगस्‍त) को उत्कल एक्सप्रेस ट्रेन दुर्घटनाग्रस्त हुयी, वहां पटरियों की मरम्मत का काम किया जा रहा था। जमशेद ने रविवार को संवाददाताओं से कहा, ‘‘कुछ मरम्मत का काम चल रहा था जो उत्कल एक्सप्रेस के हादसे के शिकार होने का कारण हो सकता है।’’ खतौली में घटनास्थल पर पहुंचे वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि उन्होंने पटरियों पर मरम्मत के औजार देखे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘बातचीत की एक ऑडियो क्लिप भी है जिसकी हम जांच करेंगे। इसके साथ ही जब हमने मौके का निरीक्षण किया हमने वहां रेलवे के कुछ उपकरण देखे जिनका इस्तेमाल पटरियों की मरम्मत के लिये किया जाता है।’’ रेलवे ने कहा कि इस हादसे में कम से कम 21 लोगों की मौत हो गयी जबकि 97 घायल हैं। घायलों में से 26 की हालत गंभीर बताई जा रही है। जमशेद ने कहा, ‘‘कहा जा रहा है कि मौके पर कुछ काम किया जा रहा था और इस काम के लिये जरूरी ऐहतियात नहीं बरते गये।’’ उन्होंने कहा कि एक शुरुआती रिपोर्ट आज शाम तक मंत्रालय को सौंपी जायेगी।

उन्होंने कहा कि रेलवे ने जांच के आदेश दिये हैं जो उत्तरी क्षेत्र के रेलवे सुरक्षा आयुक्त करेंगे। उन्होंने कहा कि यह जांच कल शुरू होगी। उन्होंने कहा, ‘‘प्रथमदृष्टया दोषी पाये गये लोगों के खिलाफ रेल मंत्री के निर्देशानुसार सख्त कार्रवाई की जायेगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आयुक्त सुरक्षा अपनी विस्तृत रिपोर्ट में यह सुनिश्चित करेंगे कि किस तरह का मरम्मत का काम पटरियों पर किया जा रहा था। वह यह भी देखेंगे कि क्या ऐसा करने में तय नियमों का पालन किया गया।’’

कांग्रेस ने रेल हादसों का रिकार्ड बनाने वाली केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की निंदा करते हुए कहा कि भाजपा वर्ष 2014 में सत्ता में आई, तब से अब तक 27 रेल हादसे हो चुके हैं, जिनमें 259 यात्रियों की जान गई और 899 घायल हो गए। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीटों की झड़ी लगाते हुए कहा, ” मोदी सरकार मई, 2014 में सत्ता में आई। तब से अब तक 27 रेल हादसे हो चुके हैं, जिनमें 259 यात्रियों की मौत हो गई और 899 घायल हो गए। सरकार कब जागेगी?”

एक ट्वीट में उन्होंने लिखा, “उत्कल एक्सप्रेस हादसे में मारे गए यात्रियों के परिवारों के प्रति हार्दिक शोक-संवेदना। निर्दोषों की मौत, रेलवे की सुरक्षा पर गंभीर बादल।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.