June 28, 2017

ताज़ा खबर
 

आरएसएस ने नारद को बताया दुनिया का पहला पत्रकार, पैंफलेट में कहा ‘पत्रकारिता का पिता’

"गोपाल ने कहा, 'अब तक पत्रकारों को अपने मार्गदर्शक से वंचित रखा गया था।, लेकिन अब उनके पास ऐतिहासिक आदर्श है।'

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने देवऋषि नारद जयंती पर पत्रकारों के लिए एक नया आदर्श स्थापित किया है। आरएसएस ने कहा है कि पत्रकारों के पास समाज के लिए अहम जिम्मेदारियां होती हैं। लेकिन वर्तमान में यैलो जर्नलिज्म के माहौल में समाज से जुड़े मुद्दों को उजागर करने और समाज के प्रति अपनी बनती जिम्मेदारी को निभाने के लिए एक असल पत्रकार को बहुत संघर्षों से गुजरना पड़ रहा है।

पंजाब में आरएसएस कैडर ने नारद जयंती के अवसर पर ‘आधुनिक भारत में मीडिया की भूमिका’ एक सेमिनार आयोजित किया था। इसमें आरएसएस के सहयोगी साप्ताहिक पत्रिका ‘पांचजन्य’ के संपादक और कई जाने-माने पत्रकारों ने भाग लिया। सेमिनार में पत्रकारों को देवऋषि नारद के रुप में पत्रकारिता करने को कहा गया। इस बीच आरएसएस शाखा प्रमुख राम गोपाल ने कहा, ”हमने शोध में पाया है कि नारद मुनी जी एक शाखा विश्व सम्वाद केंद्र (वीएसके) के प्रमुख राम गोपाल ने कहा, “हमारे शोध में पाया गया है कि नारद मुनी जी केवल मीडिया के मार्गदर्शक नहीं, बल्कि वे स्वंय एक पत्रकार थे।

गोपाल रविवार को मानस में सेमिनार को संबोधित कर रहे थे। पारंपरिक हिंदू कैलेंडर के मुताबिक मई महीने में नारद की जयंती होती है, जिसके आधार पर भटिंडा और कोटकोपुरा में सेमिनार आयोजित किया गया। वहीं दूसरी तरफ वर्तमान में इलेक्ट्रानिक मीडिया में संवाददाता की स्थिति और स्वार्थ के तहत पेश हो रही खबरों पर भी चर्चा की गई।

“गोपाल ने कहा, ‘अब तक पत्रकारों को अपने मार्गदर्शक से वंचित रखा गया था।, लेकिन अब उनके पास ऐतिहासिक आदर्श है।’ उन्होंने आगे कहा कि नारद ने ग्रंथ में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का महत्व भी बताया है।

शाखा प्रमुख ने एक किताब का हवाला देते हुए कहा कि पंजाब में मीडिया ने नारद मुनि को पत्रकारिता के पिता के रुप में अपनाया है। उन्होंने सभी पत्रकारों से आह्वाहन करते हुए कहा कि दानवों और ऋषियों तक सही संदेश पहुंचाने और मानव हित के लिए कार्य करने वाले देवऋषि नारद के सिद्धांतों पर आज के संवाददाताओं को कार्य करना चाहिए। लेकिन अफसोस की बात है कि आज के संवाददाता एकमात्र समाचार एकत्रीकरण का ही कार्य कर इस दायित्व को समाज में अपनी पहचान बनाने में गर्व महसूस कर रहा है,जबकि उसे दानव और मानव दोनों में अपनी सक्रिय भूमिका निभाते हुए समाज के हित में कार्य करना चाहिए।

इस दौरान वक्ताओं ने पंडित दीन दयाल उपाध्याय और श्यामा प्रसाद मुखर्जी को महान राष्ट्रवादी और प्रसिद्ध पत्रकार के रूप में श्रद्धांजलि अर्पित की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on May 8, 2017 6:52 pm

  1. No Comments.
सबरंग