ताज़ा खबर
 

पंजाब: अमरिंदर के खिलाफ घोटाले की शिकायत में सबसे आगे थे सिद्धू, अब मिलने जा रही क्‍लीन चिट

सिद्धू और खन्ना ने जाकर साराभा नगर पुलिस थाने में जाकर अमरिंदर और इस केस से जुड़े अन्य लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की थी।
Author चंडीगढ़ | September 2, 2017 11:11 am
नवजोत सिंह सिद्धू। PTI Photo

पूर्व क्रिकेटर और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू जब बीजेपी में थे तो वे सीएम अमरिंदर सिंह सरकार की गलतियां और उनके घोटाले को गिनाने में सबसे आगे रहते थे और अब वे उसी पार्टी की राज्य सरकार में मंत्री हैं। जब कैप्टन अमरिंदर सिंह पहली बार पंजाब के सीएम बने थे तो सिद्धू ही वह व्यक्ति थे जिन्होंने एक दशक पहले हुए लुधियाना सिटी सेंटर में 1,144 करोड़ रुपए घोटाले का आरोप सिंह पर लगाया था। शनिवार यानि की आज इस केस की लुधियाना कोर्ट में सुनवाई है। 19 अगस्त को सतर्कता विभाग द्वारा इसे केस की क्लोजर रिपोर्ट जारी की गई थी जिसमें कैप्टन सिंह को यह कहते हुए क्लीन चिट दे दी गई कि ऐसा कोई घोटाला नहीं हुआ था और यह बस काल्पनिक है।

इसके साथ ही विभाग द्वारा पहले की जांच-पड़ताल की गई रिपोर्ट भी इस क्लोजर रिपोर्ट के साथ सौंपी गई है जिसके मुख्य शिकायतकर्ता सिद्धू और वरिष्ठ बीजेपी नेता अविनाश राय खन्ना थे। रिपोर्ट के मुताबिक सिद्धू और खन्ना ने जाकर साराभा नगर पुलिस थाने में जाकर अमरिंदर और इस केस से जुड़े अन्य लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की थी। वहीं जब इस घोटले को लेकर सूबे के सीएम पर लगे आरोपों के बारे में सिद्धू से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अब परिस्थिती बदल गई है। सिद्धू ने कहा की देश का कानून सर्वोच्च है और देश का प्रत्येक व्यक्ति इसके अधीन है। कोर्ट का जो भी फैसला होगा वह अंतिम होगा तो उन्हें निर्णय लेने दें।

वहीं दूसरी तरफ जब इसके बारे में बीजेपी नेता खन्ना से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह पंजाब और स्वतंत्र एजंसी का अब तक का सबसे बड़ा घोटाला था और इसमें शामिल आरोपियों को सजा मिलनी चाहिए। खन्ना ने कहा कि पिछले चार महीनों में ऐसा क्या हुआ जिसपर सतर्कता विभाग को इसमें कोई घोटाला नजर नहीं आ रहा है। पिछले दस साल से इसकी जांच चल रही थी और अचानकर ही विभाग ने यूटर्न लेते हुए कह दिया कि इसमें कोई घोटाला नहीं है।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग