ताज़ा खबर
 

एसटीएफ के हत्थे चढ़ा पंजाब पुलिस का इंस्पेक्टर, 20 करोड़ की हेरोइन जब्त

पंजाब पुलिस में ‘आंख का तारा’ कहे जाते ‘वांछित’ पुलिस इंस्पेक्टर को धरदबोचा है और उसके खिलाफ आईपीसी, एनडीपीएस एक्ट और आर्म्स एक्ट की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया।
Author जलंधर | June 13, 2017 02:08 am
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

एक बड़ी कामयाबी के तहत पुलिस के एसटीएफ दस्ते ने पंजाब पुलिस में ‘आंख का तारा’ कहे जाते ‘वांछित’ पुलिस इंस्पेक्टर को धरदबोचा है और उसके खिलाफ आईपीसी, एनडीपीएस एक्ट और आर्म्स एक्ट की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया। उसके कब्जे से 4 किलो हेरोइन, जिसकी अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत 20 करोड़ रुपए आंकी गई है, 3 किलो स्मैक, एक एके-47 और अन्य कई घातक हथियारों समेत बड़ी संख्या में जिंदा कारतूस व देशी-विदेशी करंसी भी जब्त हुई है। सबसे बड़ा पहलू यह कि यह सारा आपत्तिजनक सामान उसके 2 सरकारी आवासों में से ही जब्त हुआ है। धरा गया इंस्पेक्टर इंदरजीत सिंह वर्तमान में फिरोजपुर पुलिस रेंज में तैनात था और इससे पहले वह कपूरथला सीआइए स्टाफ में था। स्थानीय पुलिस सूत्रों का कहना है कि आरोपी इंस्पेक्टर इंदरजीत सिंह की धरपकड़ के रूप में यह बड़ी कामयाबी दरअसल स्थानीय पुलिस लाइंस के मकान नंबर-299 में सोमवार सुबह पांच बजे ही दी गई दबिश का नतीजा है, जिसे एआइजी मुखविंदर सिंह की अगुवाई वाली एसटीएफ टीम ने अंजाम दिया।

आला एसटीएफ अधिकारी ने इस बाबत बताया कि आरोपी के एक सरकारी आवास की छानबीन के दौरान पुलिस को वहां एक एके47, इटली में बनी 9एमएम बाकी पेज 8 पर की एक पिस्तौल, एक .38बोर की रिवॉल्वर के अलावा अलग-अलग बोर की बंदूकों में इस्तेमाल होने वाले 383 कारतूस व एके47 की 115 गोलियां हाथ लगीं। इसके अलावा, पुलिस ने वहां 16.50 लाख रुपए मूल्य की भारतीय करंसी और 3,550 यूके पौंड व एक इनोवा कार भी अपने कब्जे में ली। बाद में आरोपी इंस्पेक्टर से पूछताछ में हासिल जानकारी के आधार पर पुलिस ने फगवाड़ा में उसके एक और सरकारी आवास की तलाशी के दौरान भी वहां 4 किलो हेरोइन, 3 किलोग्राम स्मैक जब्त की।

बताया जाता है कि आरोपी इंस्पेक्टर की धरपकड़ जलंधर में ही गैंगस्टर प्रिंस की धरपकड़ के बाद संभव हुई है, जिसे पंजाब पुलिस ने कुछ समय पहले ही धरा था। प्रिंस से पूछताछ में उसने ही इस इंस्पेक्टर का नाम लिया था और उसके बाद से ही एसटीएफ इस पर लगातार नजर रखे हुए थी।एसटीएफ के आइजीपी प्रमोद बैन ने जलंधर से हाथ लगी इस बड़ी कामयाबी की पुष्टि कर दी है। उनका कहना है कि उसके खिलाफ एक मामला दर्ज किया गया है और उन्हें अभी और ब्योरा मिल रहा है। उसके खिलाफ आइपीसी के अलावा आर्म्स एक्ट और एनडीपीएस एक्ट की तमाम धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। अब पुलिस इस आरोपी की गहन जांच-पड़ताल पंजाब में बैठे बड़े नशा माफिया से सांठगांठ के लिहाज से भी कर रही है। इंदरजीत असल में बेहद सक्रिय पुलिस इंस्पेक्टर था और कई दुर्दांत गिरोहों के भंडाफोड़ करने व नशा तस्करों की धरपकड़ में उसका ही हाथ रहा है। यहां तक कि दो साल पहले ही हाईवे पर हुई पुलिस मुठभेड़ में मार गिराए गए दुर्दांत सरगना सुक्खा काहलवां के गिरोह ने इंस्पेक्टर इंदरजीत सिंह को उसकी हत्या का बदला लेने की भी धमकी दी थी क्योंकि उसे ढेर किए जाने में इंदरजीत सिंह का बड़ा हाथ रहा था।

इंदरजीत सिंह सीआइए जलंधर, फगवाड़ा और कपूरथला में तैनात रहा है। पता यह भी चला है कि यही एसटीएफ अब पंजाब में कुछ और नामी-गिरामी पुलिस वालों पर भी नजर रखे हुए है। एक आला पुलिस अधिकारी ने यह भी बताया है कि इंदरजीत को प्रदेश में नशा तस्करी के कई ठिकानों की जानकारी रहती है और यहां तक कि इसे संयोग कहें या उसकी रणनीति कि दोआबा इलाके में ही उसकी कई तैनातियों के दौरान नशे की कई बड़ी खेप उसने ही जब्त की हैं

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.