December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

सत्ता में आने पर सिद्धू को पंजाब के उपमुख्यमंत्री पद की पेशकश करने की बात ग़लत: कांग्रेस

आवाज ए पंजाब के सदस्य परगट सिंह ने गुरुवार को संकेत दिया कि वे कांग्रेस से वार्ता के खिलाफ नहीं हैं।

Author चंडीगढ़ | October 20, 2016 20:44 pm
आवाज-ए-पंजाब पार्टी के संस्थापक सदस्य और नेता नवजोत सिंह सिद्धू। (PTI Photo by Kamal Singh)

पंजाब कांग्रेस ने गुरुवार (20 अक्टूबर) को इन खबरों से इंकार किया कि उसने भाजपा के पूर्व सांसद नवजोत सिंह सिद्धू को राज्य में पार्टी के सत्ता में आने की स्थिति में उपमुख्यमंत्री पद की पेशकश की है। लेकिन पार्टी ने दावा किया कि ‘चुनावी गठबंधन’ के लिए भाकपा ने संपर्क किया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पार्टी की पंजाब प्रभारी आशा कुमारी ने कहा, ‘नहीं, हमारी उनके साथ (आवाज-ए-पंजाब) कोई वार्ता नहीं हो रही है। केवल भाकपा के लोगों ने हमसे संपर्क किया है। उन्होंने संपर्क किया है लेकिन वार्ता शुरू नहीं हुई है।’

उन्होंने इन खबरों से भी इंकार किया कि कांग्रेस ने सिद्धू को पंजाब के उपमुख्यमंत्री पद की पेशकश की है। उन्होंने कहा, ‘हमारा रुख यह है कि सिद्धू हों या कोई और व्यक्ति जो भी पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी तथा हमारी पार्टी की नीतियों और कार्यक्रमों में विश्वास जताता है वह बिना शर्त के पार्टी में शामिल हो सकता है।’ बहरहाल आवाज ए पंजाब के सदस्य परगट सिंह ने गुरुवार को संकेत दिया कि वे कांग्रेस से वार्ता के खिलाफ नहीं हैं और ‘हम (आवाज-ए-पंजाब) आगे की रणनीति तय करने के लिए शुक्रवार (21 अक्टूबर) को दिल्ली में बैठक करेंगे।’

इन खबरों पर कि अगर सिद्धू कांग्रेस से हाथ मिलाते हैं और आगामी चुनावों में पार्टी राज्य में जीतती है तो उन्हें उपमुख्यमंत्री पद की पेशकश की गई है, इस पर आशा ने कहा, ‘मैं इस पर कुछ नहीं बोल सकता।’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस राज्य में ‘भ्रष्ट’ और ‘जनविरोधी’ अकाली-भाजपा सत्ता को बाहर करना चाहती है और जो कोई भी पार्टी को मजबूत करना चाहता है वह ‘बिना शर्त’ साथ आ सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 20, 2016 8:44 pm

सबरंग