June 29, 2017

ताज़ा खबर
 

नवजोत स‍िंंह स‍िद्धू के कपिल शर्मा का शो करने पर हाईकोर्ट ने कहा- आचार संह‍िता नहीं, पर नैतिकता भी कोई चीज होती है

दूसरी तरफ पंजाब के अटॉर्नी ऑफ जनरल अतुल नंदा ने नवजोत सिद्धू मामले में कहा कि जनहित याचिका दाखिल करने वाले शख्स ने ऐसे किसी प्रावधान का उल्लेख नहीं किया जिसमें मंत्री पद रहते हुए सिद्धू टीवी शो नहीं कर सकते।

इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्म रूप में किया गया है (फोटो सोर्स इंडियन एक्सप्रेस)

पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने गुरुवार (11 मई, 2017) को कहा कि आचार संहिता पजांब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को बाध्य नहीं कर सकती। हालांकि मंत्रिपद रहते सिद्धू को टीवी शो करना खासा भारी पड़ सकता है। बता दें कि सिद्धू सोनी टीवी पर प्रसारित होने वाले कॉमेडियन कपिल शर्मा के मशहूर शो ‘द कपिल शर्मा’ में नजर आते हैं। मामले में जस्टिस एसएस सरन और जस्टिस दर्शन सिंह ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि नेताओं की मोरल पुलिसिंग नहीं की जा सकती हैं। बेंच ने आगे कहा कि लोग ऐसी चीजों पर नजर रखते हैं। इसमें कोई शक नहीं कि जो लोग सार्वजनिक जीवन जीते पर उन पर भी कई दायरे लागू होते हैं, मगर हम इस पर कहां तक जा सकते हैं। हम नेताओं की मोरल पुलिसिंग नहीं कर सकते हैं।

दूसरी तरफ पंजाब के अटॉर्नी ऑफ जनरल अतुल नंदा ने नवजोत सिद्धू मामले में कहा कि जनहित याचिका दाखिल करने वाले शख्स ने ऐसे किसी प्रावधान का उल्लेख नहीं किया जिसमें मंत्री पद रहते हुए सिद्धू टीवी शो नहीं कर सकते। दूसरी तरफ अतुल नंदा ने ये भी कहा कि कोर्ट अपनी टिप्पणी में ये साफ कर चुका है कि सिद्धू पर आचार संहिता नहीं लगाई जा सकती कयोंकि ये सिर्फ सरकारी कर्मचारियों पर लागू होती है ना कि मंत्रियों पर।

आपको बता दें कि मंत्री रहते हुए टीवी शो करने को लेकर नवजोत सिंह सिद्धू पर हितों के टकराव को लेकर एक जनहित याचिका दायर की गई थी। जिस पर कांग्रेस नेता सिद्धू ने अपना बचाव करते हुए कहा कि टीवी शो करना कानून के दायरे में आता है। इसके पहले कोर्ट ने इसी मामले की सुनवाई करते हुए कहा था कि सिर्फ कानून ही सबकुछ नहीं है। फिर नैतिकता और शुचिता का क्या मतलब रह जाता है। हाईकोर्ट ने सिद्धू को फटकार लगाते हुए कहा कि अगर आप ही कानून का पालन नहीं करेंगे तो कौन करेगा।

बता दें कि इससे पहले सिद्धू ने शो करने को लेकर किए गए सवाल पर कहा था कि 6 बजे के बाद मैं कुछ भी करूं इससे किसी को क्या मतलब है। कपिल के शो करते रहने के फैसले पर विपक्षी दलों द्वारा उठाए गए सवाल पर पलटवार करते हुए सिद्धू ने ये बात कही थी। उन्होंने आगे कहा था कि मैं टीवी जगत से जुड़ा 70-80 फीसदी काम पहले ही छोड़ चुका हूं। मैं सप्ताह के सातों दिन सुबह से लेकर शाम तक काम करता हूं। इसीलिए मैं शाम को क्या करता हूं इसपर किसी कोई एतराज नहीं होना चाहिए। क्योंकि ये ऑफिस ऑफ प्रॉफिट के दायरे में नहीं आता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on May 11, 2017 4:33 pm

  1. No Comments.
सबरंग