March 25, 2017

ताज़ा खबर

 

कैप्टन के मुफ्त सरकारी आवास के ऑफर को बादल ने ठुकराया, कहा- मैं खुद कर सकता हूं अपना इंतजाम

बादल ने कैप्टन की अगुआई वाली कांग्रेस सरकार के प्रति नरम रुख दिखाते हुए कहा कि वह और उनकी पार्टी शिरोमणि अकाली दल पंजाब की जनता के व्यापक हित में कांग्रेस सरकार के किसी भी फैसले का पूरा और तहेदिल से समर्थन करेगी।

पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल ने विनम्रतापूर्वक खारिज किया ऑफर।

पंजाब में बड़ी राजनीतिक उलट फेर के बाद पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने कांग्रेस की नवगठित सरकार के मुफ्त सरकारी आवास के ऑफर को विनम्रतापूर्वक खारिज कर दिया है। कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली सरकार ने राजधानी चंडीगढ़ में बादल को मुफ्त सरकारी आवास देने की पेशकश की थी। अकाली नेता प्रकाश सिंह बादल 10 साल तक पंजाब की गद्दी संभालने के साथ पांच बार प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। बादल ने कहा,”मैं मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के इस प्रस्ताव के लिए उनका शुक्रगुजार हूं। लेकिन मैं खुद अपने रहने की व्यवस्था कर सकता हूं। मैं उनकी भावनाओं की कद्र करता हूं और पूरी तरह उनके प्रति भी अपनी सद्भावनाएं प्रकट करता हूं।” इससे पहले खबरें थीं कि वरिष्ठ अकाली नेता मुख्यमंत्री का पद छोड़ने के बाद एक अच्छा घर तलाश रहे हैं।

बादल ने कैप्टन की अगुआई वाली कांग्रेस सरकार के प्रति नरम रुख दिखाते हुए कहा कि वह और उनकी पार्टी शिरोमणि अकाली दल पंजाब की जनता के व्यापक हित में कांग्रेस सरकार के किसी भी फैसले का पूरा और तहेदिल से समर्थन करेगी। उन्होंने कहा कि अकाली दल टकराव या आलोचना के लिए आलोचना करने में विश्वास नहीं रखती है। अगर नई सरकार में अपने वादों को पूरा करने की दृढ़ इच्छाशक्ति है तो वह आसानी से इसे कर सकती है।

89 साल के अकाली नेता प्रकाश सिंह बादल चंडीगढ़ के टोनी सेक्टर 2 स्थित मुख्यमंत्री आवास में रहते थे। वह पहले की इस बंगले को छोड़ चुके हैं। बादल लांबी से एकमात्र विधायक हैं और उनकी पार्टी (शिरोमणि अकाली दल) के विधानसभा में केवल 15 सदस्य हैं, जिसके चलते वह सदन में विपक्ष के नेता के लिए क्वॉलिफाई नहीं है। इसकी वजह से वह सरकारी आवास पाने के हकदार नहीं हैं। 5 राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में पंजाब में शिअद और बीजेपी ने मिलकर चुनाव लड़ा था। 11 मार्च को घोषित हुए नतीजों में गठबंधन को करारी हार का सामना करना पड़ा था। जिसके कारण 10 साल से राज्य की सत्ता पर काबिज बादल को मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ी। कांग्रेस ने कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में नई सरकार का गठन किया।

कैप्टन अमरिंदर सिंह दूसरी बार बने पंजाब के मुख्यमंत्री; नवजोत सिंह सिद्धू समेत 9 मंत्रियों ने ली शपथ

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on March 20, 2017 11:42 am

  1. No Comments.

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग