ताज़ा खबर
 

पंजाब विवि में फीस बढ़ोतरी के खिलाफ हिंसक हुए छात्र , 66 छात्रों पर देशद्रोह का मामला दर्ज

पुलिस का कहना है कि हिंसा करने वाले 66 में से 52 छात्रों को पुलिस ने हिरासत में लिया है।
Author चंडीगढ़ | April 12, 2017 14:08 pm
यूनिवर्सिटी कैम्पस में नारेबाजी करते छात्र। ( Photo Source: ANI Video)

पंजाब विश्वविद्यालय में फीस वृद्धि के फैसले पर भड़के छात्रों का धरना-प्रदर्शन मंगलवार को तब हिंसक हो गया, जब आंदोलनकारी वहां तैनात पुलिस से भिड़ गए। इसके बाद छात्रों को काबू में करने के लिए पुलिस को लाठियां भांजनी पड़ीं। इस पूरे मामले में में दोनों पक्षों को चोटें आर्इं। यूटी पुलिस ने इस मामले में 52 विद्यार्थियों को हिरासत में लिया है। इस पूरे घटनाक्रम में 22 पुलिस कर्मचारियों समेत 40 लोग घायल हुए हैं। चंडीगढ़ पुलिस ने 66 विद्यार्थियों के खिलाफ देशद्रोह के अलावा लूटपाट व सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का मामला भी दर्ज किया है। 66 विद्यार्थियों पर राजद्रोह की धारा जोड़ने के सवाल पर पुलिस और विवि प्रबंधन की चौतरफा आलोचना हुई है।  मंगलवार शाम वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ईश सिंघल ने स्थिति स्पष्ट करते हुए कहा कि जांच में राजद्रोह के आरोपों की पुष्टि न हुई तो यह धारा निकाल दी जाएगी। गिरफ्तार सभी विद्यार्थियों को बुधवार अदालत में पेश किया जाएगा। विवि के मुख्य सुरक्षा अधिकारी अश्विनी कौल ने बताया कि विद्यार्थी नारेबाजी कर रहे थे। उनके नारों पर ध्यान दिया जाए तो मुख्य तौर पर मानव संसाधन मंत्रालय, विवि अनुदान आयोग और पंजाब विवि थे। इसके अलावा प्रदर्शनकारियों ने पंजाब विश्वविद्यालय मुर्दाबाद जैसे नारे लगाए। यूटी पुलिस का कहना है कि हिंसा करने वाले 66 में से 52 छात्रों को पुलिस ने हिरासत में लिया है।

परिसर में यह फसाद तब शुरू हुआ, जब आंदोलनकारी छात्रों ने पंजाब विवि बंद के मसले पर उनके साथ विचार-विमर्श के लिए कुलपति प्रोफेसर अरुण कुमार ग्रोवर के कार्यालय में जबरन घुसने का प्रयास किया था। बता दें कि एसएफएस, एनएसयूआइ, पुसू आदि छात्र संगठनों की ओर से वृद्धि के फैसले के खिलाफ पंजाब विवि बंद का संयुक्त आह्वान किया गया।
छात्र दरअसल पंजाब विवि के कुलपति द्वारा उन्हें फीस वृद्धि के मुद्दे पर चर्चा के लिए उनके कार्यालय में अंदर न बुलाए जाने पर उखड़ गए थे। फिर परिसर में हालात ज्यादा बेकाबू नहीं हो पाएं, इसके लिए पुलिस ने छात्रों पर पानी की बौछारें फेंकी थीं। इसके बाद तैश में आकर प्रदर्शनकारी छात्रों ने वहां तैनात पुलिस कर्मियों पर पत्थर फेंकने शुरू किए और उन पर वहां रखे गमले उठा-उठाकर उन पर दे मारे। मजबूरन पुलिस कर्मियों को भी अपने बचाव में आंसू गैस के गोले फेंकने पड़े और हिंसक छात्रों को काबू करने के लिए उन पर लाठियां भांजनी पड़ीं, जिसमें लड़कियों समेत बड़ी संख्या में विद्यार्थी गंभीर रूप से घायल हुए हैं।

एसपी ईश सिंघल ने बताया, पुलिस के 22 कर्मी इस हिंसा में घायल हुए हैं। छात्रों के अचानक हिंसक हो जाने के बाद उन्हें काबू करने को उन पर लाठियां भांजनी पड़ीं। हिंसा में पुलिस वाहनों को भी नुकसान पहुंचा है। एसपी ने आगे कहा, पांच-छह पुलिस अधिकारियों को चोटें आर्इं हैं। जब पुलिस ने छात्रों पर लाठियां भांजनी शुरू कीं तो कुछ छात्र बचने के लिए वहां परिसर में बने गुरुद्वारए में शरण लेने घुस गए।छात्र हिंसा में अखबारों के कुछ छायाकारों और रिपोर्टरों को चोटें आर्इं जो आंदोलन कवर करने वहां खड़े थे। उन्हें ये चोटें पुलिस के लाठियां भांजने के दौरान आर्इं। चंडीगढ़ प्रेस क्लब ने इसकी कड़ी निंदा की है। क्लब का एक प्रतिनिधिमंडल इस मामले में यूटी प्रशासक, सलाहकार और यूटी के आइजीपी से मुलाकात कर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग उठाएगा।

इससे पहले पंजाब विवि के छात्रों ने फीस वृद्धि के खिलाफ कक्षाओं का बहिष्कार किया और कुछ छात्रों ने वहां जबरन दुकानें बंद कराने की भी कोशिश की थी।बता दें कि पंजाब विवि के छात्र शिक्षा सत्र 2017-18 के लिए पिछले ही महीने पंजाब विवि सीनेट द्वारा उल्लेखनीय फीस वृद्धि के फैसले के खिलाफ आंदोलन चला रहे हैं। कुछ पाठ्यक्रम में तो यह वृद्धि बेतहाशा की गई है। और तो और, बी फार्मा कोर्स की 5080 रुपए फीस को बढ़ाकर 50000 रुपए कर दिया गया है, जबकि एमए जर्नलिज्म कोर्स की 5290 रुपए फीस को बढ़ाकर 30000 रुपए कर दिया गया है। पंजाब विवि में डेंटल कोर्स की 86400 रुपए फीस को बढ़ाकर 1.50 लाख रुपए कर दिया गया है। पंजाब विवि परिसर के तमाम छात्र संगठन फीस वृद्धि का फैसला वापस लिए जाने की जिद पर अड़े हैं, जबकि पंजाब विवि ने 12.5 फीसद फीस वृद्धि को जायज ठहराया है। विवि की कमजोर वित्तीय हालत को देखते हुए विवि ने वित्तवर्ष 2017-18 के लिए 244 करोड़ रुपए के घाटे का अनुमान जता रखा है।

 

 

कौन हैं कुलभूषण जाधव? जानिए क्या हैं उन पर आरोप

बीजेपी यूथ विंग के नेता ने कहा- "ममता बनर्जी का सिर काटकर लाने वाले को 11 लाख रुपए दूंगा"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.