ताज़ा खबर
 

पंजाब: खनन मामले में उलझ गई कांग्रेस सरकार!

पंजाब में करीब एक दशक बाद सत्ता संभाल रही कांग्रेस उसी चक्रव्यूह में उलझ गई है जिसमें वह दस साल तक अकाली-भाजपा सरकार को उलझाती रही है।
Author चंडीगढ़ | June 15, 2017 04:48 am
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (File Photo)

संजीव शर्मा

पंजाब में करीब एक दशक बाद सत्ता संभाल रही कांग्रेस उसी चक्रव्यूह में उलझ गई है जिसमें वह दस साल तक अकाली-भाजपा सरकार को उलझाती रही है। सत्ता में आने के बाद पहली तिमाही में रेत के मुद्दे पर सरकार की अपने ही एक मंत्री की वजह से किरकिरी हो रही है। एक मंत्री की चीनी मिल के कर्मचारियों की ओर से बोली के माध्यम से प्रदेश में सबसे महंगी रेत खदानें खरीदे जाने पर पिछले कई दिनों से विवाद चल रहा है। विपक्ष इस मुद्दे पर लगातार आक्रामक हो रहा है। बढ़ते दबाव के कारण मुख्यमंत्री ने जांच आयोग बनाया है लेकिन इस पर भी विपक्ष ने सवाल उठाना शुरू कर दिया है।

क्या है खनन विवाद
पंजाब में खनन माफिया कई वर्षों से सक्रिय हैं। इनके कारण पंजाब में घर बनाना लगातार महंगा होता जा रहा है। कांग्रेस इसी मुद्दे को भुनाकर सत्ता में आई थी। सरकार के लाख दावों के बावजूद माफिया की पकड़ कमजोर नहीं हो रही है। नई सरकार में हुई ई-नीलामी के एक हफ्ते बाद ही रेत की ट्राली के दाम 300 रुपए प्रति फुट के हिसाब से बढ़ गए हैं। प्रदेश में 10 से 13 हजार रुपए में मिलने वाला ट्रक अब ब्लैक में 40 हजार रुपए में बिक रहा है।पंजाब में रेत व बजरी की किल्लत के कारण निर्माण कार्य लटक गए हैं। कांग्रेस सरकार बनने के बाद पहली बार बीती 19 मई को राज्य में 102 रेत खदानों की नीलामी हुए। इनमें 89 लोगों ने 86 खदानों पर बोली लगाई। सरकार का दावा है कि उसे इन बोलियों से करीब 300 करोड़ का लाभ हुआ है। अब तक हुई बोली में 20 प्रतिशत खदानों की आॅनलाइन बिक्री में धांधली के आरोपों के कारण विवाद हो गया है।

कैसे लगी सूबे में रेत खदानों की बोली की नीलामी

सरकार का तर्क है कि खदानों के लिए लगभग 1026 बोलीकारों ने आवेदन किया था। बोली की प्रक्रिया के दौरान आठ खदानों संबंधी ईएमडी प्राप्त नहीं हुई जिस कारण उनकी नीलामी नहीं की जा सकी। 18 खदानों के लिए केवल एक बोलीकार ने ही ईएमडी जमा करवाई जबकि अन्य खदानों के लिए एक से अधिक बोलीकार शामिल हुए थे जिनकी संख्या 2 से लेकर 32 तक थी और इन्होंने अपनी बयाना रकम जमा करवाई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on June 15, 2017 4:48 am

  1. No Comments.
सबरंग