ताज़ा खबर
 

IAS की बेटी ने फेसबुक पर साझा किया डर, बोली-तीन बार रोका रास्ता, खीड़की तोड़ने की भी हुई कोशिश

पीड़ित लड़की ने लिखा है कि कल रात की घटना से पहले मैं हथियार रखने की शौकीन नहीं थी। चाहे वो गन हो, चाकू हो या कोई भी हाथियार जो आपको सुरक्षित रखे अपने साथ रखें।
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

चंडीगढ़ की जिस लड़की का पीछा देर रात किया गया, उस लड़की ने हादसे से बचने के बाद अपनी साथ हुई घटना का विस्तृत ब्योरा अपनी फेसबुक वॉल पर साझा किया है। लड़की के फेसबुक वॉल के मुताबिक आरोपी युवकों ने उसकी कार का पीछा किया। आरोपियों ने एक जगह उसकी कार के आगे युवकों ने अपनी एसयूवी तक लगाकर रास्ता रोक दिया था। लड़की आनन-फानन में कार तेजी से पीछे ले गई और पुलिस को फोन कर मदद मांगी। आगे रास्ते में पुलिस की गाड़ी ने इन युवकों को धर दबोचा। लड़की इतनी दहशत में है कि उसे लग रहा है कि वह अपहृत होने से बच गई है।   पीड़िता ने अपनी फेसबुक वॉल पर लिखा है कि वह शुक्रवार रात 12.15 बजे चंडीगढ़ की सेक्टर-8 मार्केट से अपने घर कार से आ रही थी। वह कार चलाते हुए मोबाइल फोन पर बात कर रही थी। इस दौरान वह सेक्टर-7 स्थित पेट्रोल पंप तक पहुंच गई थी। उस समय उसने देखा कि एक सफेद एसयूवी कार उसकी कार के पीछे पीछे आ रही है। तब तक मेरी कार सेक्टर-26 स्थित सेंट जॉन की लालबत्ती के करीब पहुंचने वाली थी। लिहाजा मैंने जगह दी ताकि एसयूवी आगे निकल जाए। लेकिन कार में बैठे दो युवकों ने चलती कार से फब्तियां कस छेड़खानी करनी शुरू कर दी। लिहाजा मैंने भीड़भाड़ वाले मध्य मार्ग की ओर से रास्ता लेने की कोशिश की। इस दौरान युवकों ने मेरा रास्ता रोक दिया। मजबूरन मुझे सेक्टर 26 की ओर सीधे आगे बढ़ना पड़ा। मैंने अगले मोड़ से कार मोड़ने की कोशिश की लेकिन युवकों ने मेरी कार के आगे एसयूवी लगा दी और वे एसयूवी से निकल कर मेरी कार की ओर आने लगे। लिहाजा मैंने तेजी से कार पीछे ली और पुलिस को फोन किया। पुलिस को कार की जगह बताई और मदद मांगी। फोन पर ही पुलिसकर्मी ने कहा कि जल्द मदद के लिए पहुंच रहे हैं।

लड़की ने लिखा ‘इस दौरान मेरी कार मुख्यमार्ग पर आ चुकी थी। तब 15 सेकेंड तक कार नहीं दिखाई देने पर मैंने राहत की सांस ली। इसी दौरान एसयूवी मेरी कार के बराबर आ गई। मैं कार तेजी चला रही थी। हर 10-15 सेकेंड बाद कार मेरी कार के दाएं-बाएं आ रही थी। मैं बहुत घबरा गई थी। मेरे हाथ कांपने शुरू हो गए थे। रीढ़ की हड्Þडी में अकड़न सी महसूस हो रही थी। आंखों से आंसू आ गए थे। एसयूवी ने छह किलोमीटर तक मेरी कार का पीछा किया। अंत में उन्होंने मेरी कार के आगे एसयूवी खड़ी कर दी। मैंने अपनी कार में सेंट्रल लॉक लगा लिया था।’ लड़की ने आरोप लगाया कि इन युवकों ने उसकी कार की खिड़की तोड़ने की कोशिश भी की। इसी दौरान पुलिस की गाड़ी आते हुए दिखाई दी और मैंने राहत की सांस ली। पुलिस ने दोनों आरोपियों को पकड़ लिया।

महज 15 मिनट में बदल गई पुलिस की कार्रवाई

भाजपा अध्यक्ष के बेटे द्वारा एक आइएएस अधिकारी की बेटी के साथ छेड़छाड़ किए जाने के मामले में चंडीगढ़ पुलिस की कार्रवाई सवालों के घेरे में है। पुलिस ने रात्रि के समय आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 354-डी तथा मोटर व्हीकल एक्ट की धारा 185 के तहत मामला दर्ज किया। दिनभर चले नाटकीय घटनाक्रम के बीच मामले की जांच कर रहे डीएसपी ने शाम करीब साढेÞ तीन बजे बताया कि पहले दर्ज मामले में आइपीसी की धारा 341, 365 और 511 को जोड़ दिया गया है। पुलिस की इस कार्रवाई के अनुसार आरोपियों को जमानत मिलनी मुश्किल थी। डीएसपी ने करीब 15 मिनट बाद मीडिया से दोबारा बातचीत की और कहा कि पुलिस ने पहले से दर्ज मामले में केवल धारा 341 को ही जोड़ा गया है जबकि धारा 365 व 511 को जोड़ने के लिए कानूनी राय ली जाएगी। बदले हुए घटनाक्रम में सभी धाराएं जमानती होने के कारण आरोपियों को पुलिस थाने से ही जमानत मिल गई और वह रिहा हो गए।

हाईप्रोेफाइल होने के बावजूद लड़की के बयानों में हुई देरी

बीती रात चंडीगढ़ में हुआ छेड़छाड़ का मामला हाईप्रोफाइल होने के बावजूद पीड़ित लड़की के बयान दर्ज करवाने में पुलिस को काफी समय लग गया। पुलिस की थ्योरी पर यकीन किया जाए तो रात्रि के समय पुलिस को यह नहीं पता चल सका कि आरोपी भाजपा अध्यक्ष का बेटा है और पीड़िता एक आइएएस की बेटी है। सुबह होते-होते जब मामले ने तूल पकड़ा और टीवी चैनलों की ओबी वैन सेक्टर-26 के पुलिस थाने के बाहर खड़ी हो गई तो पुलिस हरकत में आ गई। इसके चलते पूरे मामले में खासी एहतियात बरती गई। पुलिस ने पीड़िता के बयान न्यायाधीश के समक्ष करवाने का फैसला किया लेकिन संबंधित न्यायाधीश एक कार्यक्रम में व्यस्त होने के चलते पहले पुलिस दोपहर तक इंतजार करती रही। उसके बाद डयूटी मेजिस्ट्रेट के समक्ष पीड़िता के बयान दर्ज करवाए गए।


हरियाणा के टोहाना निवासी जयदीप की है गाड़ी

भाजपा अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे को गिरफ्तार करने के बाद चंडीगढ़ पुलिस ने उस सफारी गाड़ी को भी अपने कब्जे में ले लिया जिसमें दोनों आरोपी सवार थे। पुलिस जांच में पता चला है कि बरामद की गई गाड़ी टोहाना निवासी जयदीप के नाम पर पंजीकृत है। जयदीप सुभाष बराला के रिश्तेदार हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग