ताज़ा खबर
 

10 साल की सजा काट रहे हरियाणा के पूर्व सीएम ओम प्रकाश चौटाला ने 82 वर्ष की उम्र में जेल में की 12वीं पास, अब बीए पास करने की तैयारी

ओम प्रकाश चौटाला के छोटे बेटे अभय चौटाला ने खबर की पुष्टि करते हुए बताया कि उनके पिता जेल में दुनिया भर के महान नेताओं के बारे में लिखी किताबें पढ़ते हैं।
Author May 17, 2017 07:47 am
हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला। (एजेंसी फाइल फोटो)

सुखबीर सिवाच

टीचर भर्ती घोटाले में दोषी पाए जाने पर 10 साल जेल की सजा काट रहे हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला ने उच्च माध्यमिक शिक्षा परीक्षा (12वीं) प्रथम श्रेणी में पास कर ली है। 82 वर्षीय चौटाला स्नातक की पढ़ाई करने की भी तैयारी कर रहे हैं। दिल्ली के तिहाड़ जेल में सजा काट रहे चौटाला ने नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ ओपेन लर्निंग (एनआईओएस) से पढ़ाई की। ओम प्रकाश चौटाला के छोटे बेटे और हरियाणा में नेता विपक्ष अभय सिंह चौटाला ने इस खबर की पुष्टि की।

अभय चौटाला ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “आखिरी परीक्षा 23 अप्रैल को थी। उस समय वो पैरोल पर रिहा थे। चूंकि परीक्षा केंद्र जेल के अंदर था इसलिए उन्हें परीक्षा देने के लिए जेल में जाना पड़ा।” ओम प्रकाश चौटाला अपने पोते दुष्यंत सिंह चौटाला की शादी के लिए अप्रैल के दूसरे पखवाड़े में पैरोल पर थे। ओम प्रकाश चौटाला का पैरोल पांच मई को खत्म हुई।

अभय सिंह चौटाला ने बताया, “हाल ही में आए रिजल्ट में उन्हें ए ग्रेड (प्रथम श्रेणी) मिली है। उन्होंने अपनी सजा का सार्थक उपयोग करने का सोचा। वो जेल के पुस्तकालय में नियमित तौर पर जाते हैं। वो वहां अखबार और किताबें पढ़ते हैं। वो जेलकर्मियों से अपनी पसंदीदा किताबें मंगवाते हैं। वो पूरी दुनिया के महान नेताओं के जीवन पर आधारित किताबें पढ़ते हैं। कई बार वो हम लोगों से भी किताबें भेजने को कहते हैं।” ओम प्रकाश चौटाला के करीबी माने जाने वाले सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी आरएस चौधरी कहते हैं, “सभी विपत्तियों के बावजूद उन्होंने अपनी पढ़ाई जारी रखी। ”

ओम प्रकाश चौटाला और उनके बेटे अजय चौटाला को साल 2013 में ट्रायल कोर्ट ने साल 2000 में हरियाणा में हुई 3206 जूनियर बेसिक ट्रेन्ड टीचर भर्ती में घोटाले का दोषी पाया था। सुप्रीम कोर्ट ने भी निचली अदालत के फैसले को सही पाते हुए उनकी सजा को बरकरार रखा था। टीचर भर्ती घोटाले में ओम प्रकाश चौटाला और अभय चौटाला के अलावा 53 अन्य लोगों को भी अदालत ने दोषी पाया था।

वीडियो- भारतीय जवानों के बर्बरता पर राजनाथ सिंह का जवाब- जो करना है बोलकर नहीं, करके दिखाएंगे

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.